साउथ अफ्रीका दौरे के बाद टीम इंडिया श्रीलंका दौरे पर होगी. हालाकि इस बार टेस्ट और वनडे नहीं बल्कि टी 20 ट्राई सीरीज में वो हिस्सा लेगी. 6 मार्च से 18 मार्च तक मुकाबले खेले जाएंगे जिसमें तीसरी टीम बांग्लादेश की होगी. अंतरराष्ट्रीया क्रिकेट में ये दूसरा मौका होगा जब तीनों देशों के बीच टी 20 टूर्नामेंट खेलेगी.

इस दौरे के लिए भारतीय टीम का चयन शनिवार या रविवार को किया जा सकता है. एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता में चयनकर्ता जब टीम के चयन के लिए बैठक करेंगे तो उनके सामने तेज गेंदबाज की जोड़ी भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह को लेकर सई सवाल होंगे.

इन दोनों के अलावा कप्तान विराट कोहली को लेकर भी कुछ सवाल उठेंगें. कोहली साउथ अफ्रीका दौरे पर सभी मुकाबलों में खेले हैं ऐसे में अगर वो आराम की मांग करते हैं तो इस दौरे से उन्हें बाहर भी रखा जा सकता है.

हालाकि कोहली के पास आईपीएल के लिए खिद को तरोताजा करने के लिए 15-20 दिनों का समय होगा. यह टूर्नामेंट सीजन का अंतिम टूर्नामेंट होगा. कोहली इसका हिस्सा बनना चाहेंगे या नहीं ये खुद उन पर निर्भर होगा लेकिन इस बात की संभावना ज्यादा है कि तेज गेंदबाजों को लेकर कुछ फैसला लिया जाए.

भुवनेश्वर ने साउथ अफ्रीका दौरे पर टेस्ट और वनडे सीरीज को मिलाकर करीब 100 से ज्यादा ओवर डाले हैं. लेकिन किसी ने भी बुमराह से ज्यादा गेंदबाजी नहीं की है जो कोहली और हार्दिक पंड्या के साथ दौरे पर अभी तक सभी मैच खेलने वाले तीन खिलाड़ियों में से एक हैं.

अगर बुमराह तीन टी20 में अपने पूरे कोटे गेंदबाजी करते हैं तो वह 166 ओवर से ज्यादा गेंदबाजी कर लेंगे जो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को देखते हुए काफी ज्यादा है. भारत को अगले सीजन में 30 वनडे सहित 63 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने हैं तो बुमराह की फिटनेस चयनकर्ताओं और टीम मैनेजमेंट दोनों के लिए प्राथमिकता होगी.

अगर बुमराह और भुवी को आराम दिया जाता है तो शार्दुल ठाकुर और जयदेव उनादकट के नई गेंद की जिम्मेदारी उठाने की उम्मीद है. केरल के यार्कर विशेषज्ञ बासिल थम्पी श्रीलंका के खिलाफ घरेलू टी20 सीरीज के दौरान रिजर्व खिलाड़ी थे और अगर भुवनेश्वर या बुमरा में से किसी एक को या फिर दोनों को आराम दिया जाता है तो वह शायद वापसी कर सकते हैं.