बहुत बार एेसा होता है कि अधिक मेहनत करने पर भी व्यक्ति को लाभ नहीं मिल पाता और यदि लाभ मिलता है तो ज्यादा देर तक वह लाभ उसके पास टिकता नहीं है। जिस वजह से घर में सदैव दरिद्रता व गरीबी बनी रहती है। एेसे में इन मुसीबतों का कारण घर आदि की कुछ एेसे बातें हो सकती है, जिनके नकारात्मक प्रभाव के कारण यह सब होता है। वास्तु के अनुसार कुछ एेसे वास्तु दोष होते हैं, जिनका प्रभाव होने पर व्यक्ति को हमेशा पैसों की कमी और कई अन्य मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।


यहां जानें वे दोष जिनक दूर करने से कई परेशानियों से बचा जा सकता है-


वास्तु के अनुसार, उत्तर-पूर्व दिशा धन आगमन की दिशा मानी जाती है। जिन घरों में इस दिशा में भारी सामान या गंदगी होती है, वहां हमेशा आर्थिक परेशानी बनी रहती है। साथ ही धन का आगमन धीमी गति से होता है।



उत्तर-पूर्व की तरह उत्तर-पश्चिम दिशा भी धन आगमन के लिए महत्वपूर्ण मानी जाती है। अगर इस दिशा में हर समय अंधेरा हो तो,  परिवार में आपसी मतभेद बढ़ता है और अक्सर धन की हानि होती रहती है।



दक्षिण दिशा की तरफ दरवाजा या तिजोरी नहीं होना चाहिए। इस दिशा में दरवाजा या तिजोरी होने पर धन और आयु की कमी होती है। अगर ऐसे हो तो दोष से बचने के लिए उस पर लाल रिबन में बंधे तीन सिक्के टांग दें।


 


जिन घरों में उत्तर पूर्व दिशा में रसोई घर होता है, उस घर का बजट अक्सर बिगड़ा रहता है। पश्चिम या दक्षिण पूर्व में रसोई घर हो तो धन धान्य में वृद्धि होती है।


 


घर के जिस कमरे में परिवार का मुखिया सोता हो, अगर वह कमरा दक्षिण-पूर्व दिशा में हो घर में अनावश्यक परेशानी आती रहती है। साथ ही घर में आर्थिक परेशानियां बढ़ती है और पारिवारिक सुख में कमी आती है।