पोर्ट एलिजाबेथ

टीम इंडिया और साउथ अफ्रीका के बीच छह मैचों की वनडे सीरीज का पांचवां मुकाबला पोर्ट एलिजाबेथ के सेंट जॉर्ज पार्क स्टेडियम में खेला जा रहा है. टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया ने 50 ओवर में 7 विकेट गंवा कर 274 रन बनाए और साउथ अफ्रीका को जीत के लिए 275 रनों का टारगेट दिया. भारतीय टीम के लिए रोहित शर्मा ने वनडे करियर का 17वां शतक लगाते हुए 115 रन बनाए.


रोहित के अलावा विराट कोहली ने 36, शिखर धवन ने 34, श्रेयस अय्यर ने 30 रनों की पारियां खेली. साउथ अफ्रीका की तरफ से लुंगी नगीदी ने सबसे ज्यादा चार विकेट लिए. कैगिसो रबाडा को एक सफलता मिली. दो बल्लेबाज रन आउट हुए. 

टीम इंडिया को मिला पहले बल्लेबाजी का न्योता


इससे पहले साउथ अफ्रीका ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया और टीम इंडिया को बल्लेबाजी का न्योता दिया. भारतीय टीम में कोई बदलाव नहीं हुआ  जबकि साउथ अफ्रीका की टीम में क्रिस मॉरिस की जगह तबरेज शम्सी को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया गया. क्रिस मॉरिस पीठ में समस्या के कारण मैच नहीं खेल रहे हैं.


भारत के पास इतिहास रचने का मौका


पिछले कुछ वर्षो के दौरान वनडे क्रिकेट में साउथ अफ्रीका में भारत का रिकॉर्ड खराब रहा है, लेकिन विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम इसे बदल सकती है.


सीरीज में 3-1 की बढ़त बनाने के बाद भारत को अब अफ्रीकी सरजमीं पर पहली वनडे सीरीज जीतने के लिए सिर्फ एक और जीत की जरूरत है. इससे पहले 2010- 11 में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में उसने 2-1 से बढ़त बनाई थी, लेकिन सीरीज 3-2 से गंवा दी.


साल 2013-14 के दौरान हुई वनडे सीरीज में भारत को दक्षिण अफ्रीका के हाथों 0-2 से हार झेलनी पड़ी थी.


पोर्ट एलिजाबेथ में इतिहास रचने का डबल चांस


पोर्ट एलिजाबेथ में टीम इंडिया का रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है. ऐसे में टीम इंडिया को सीरीज जीत के साथ-साथ यहां भी इतिहास रचना होगा. 1992-2011 के दौरान यहां टीम इंडिया ने अपने सभी पांचों मैच गंवाए हैं. यहां वह चार मुकाबले साउथ अफ्रीका के खिलाफ हारी है, जबकि एक मैच में केन्या ने मात दी थी.


1. 1992: 6 विकेट से साउथ अफ्रीका ने हराया


2. 1997: 6 विकेट से साउथ अफ्रीका ने हराया


3. 2001: 70 रनों से केन्या ने हराया


4. 2006: 80 रनों से साउथ अफ्रीका ने हराया


5. 2011: 48 रनों से साउथ अफ्रीका ने हराया


टीम इंडिया


इस वनडे सीरीज में कप्तान विराट कोहली का प्रदर्शन शानदार रहा है. वह पहले चार वनडे मैचों में 393 रन बना चुके हैं, जिसमें दो शतक भी शामिल हैं. कप्तान के अलावा ओपनिंग बल्लेबाज शिखर धवन भी सीरीज में अच्छी फॉर्म में नजर आए हैं और पांचवें वनडे मैच में वह टीम की महत्वपूर्ण कड़ी साबित हो सकते हैं.


सीरीज के पहले चार वनडे मैचों में ओपनिंग बल्लेबाज रोहित शर्मा ने केवल 40 रन बनाए हैं और कप्तान कोहली पांचवें वनडे में उन्हें मैदान से बाहर रख सकते हैं. दिनेश कार्तिक, मनीष पांडे या केदार जाधव में से किसी को रोहित शर्मा की जगह टीम में मौका दिया जा सकता है.


अफ्रीका के लिए इस सीरीज में टेढ़ी खीर साबित हुए स्पिन गेंदबाज कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल से कप्तान कोहली को पांचवें वनडे में भी बेहतरीन प्रदर्शन करने की उम्मीद होगी.


हालांकि, चौथे वनडे में अफ्रीका के लिए विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर खेले हेनरिक क्लासेन को भारत के स्पिन गेंदबाजों का सामना करने में ज्यादा मुश्किल नहीं आई थी.

साउथ अफ्रीका


दुनिया के किसी भी टीम की सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी क्रम को ध्वस्त करने का माद्दा रखने वाले अफ्रीका के बल्लेबाज हाशिम आमला, जे पी ड्यूमिनी, एबी डिविलियर्स और डेविड मिलर पांचवें वनडे में भारतीय गेंदबाजों के लिए मुश्किल का सबब बन सकते हैं.


गेंदबाजी में अफ्रीका को तेज गेंदबाज कैगिसो रबाडा और लुंगी नगीदी से सेंट जॉर्ज पार्क में शानदार प्रदर्शन करने की उम्मीद होगी.


मौसम विभाग ने शहर में बारिश होने का अनुमान लगाया है, जिससे टीम संयोजन पर असर पड़ सकता है, क्योंकि दोनों कप्तान मौसम के मिजाज को देखते हुए प्लेइंग इलेवन का चयन करना चाहेंगे.


प्लेइंग इलेवन :


भारत: विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे, महेंद्र सिंह धोनी, श्रेयस अय्यर, हार्दिक पंड्या, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह.


साउथ अफ्रीका: हाशिम अमला, एडेन मार्करम (कप्तान), एबी डिविलियर्स, जेपी डुमिनी, हेनरिक क्लासेन (विकेटकीपर), डेविड मिलर, तबरेज शम्सी, कैगिसो रबाडा, लुंगी नगीदी, फेहलुकवायो और मोर्ने मोर्केल.