टीम इंडिया के फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने महेंद्र सिंह धौनी की विकेटकीपिंग को लेकर एक अहम बात कही है। धौनी की विकेटकीपिंग के लिए उन्होंने एक टर्म भी इजाद कर डाला है। मौजूदा समय में धौनी को दुनिया का बेस्ट विकेटकीपर माना जाता है। श्रीधर का मानना है कि धौनी की विकेटकीपिंग शैली कभी भी विशुद्ध रूप से पारंपरिक नहीं रही है लेकिन इसने उन्हें और भी बेहतर बना दिया।


धौनी कीपिंग प्रैक्टिस सेशन में ज्यादा भाग नहीं लेते लेकिन करीबी स्टंपिंग और रनआउट करने में उन्हें महारथ हासिल है। श्रीधर ने कहा, 'धौनी की अपनी शैली है, जो उनके लिए काफी सफल है। मुझे लगता है हम उनकी विकेटकीपिंग शैली पर शोध कर सकते हैं और मैं इसे 'द माही वे' नाम देना चाहूंगा।'


इतना ही नहीं श्रीधर ने साथ ही कहा, 'उनकी शैली से कई चीजें सीखी जा सकती हैं, इतनी सारी चीजें जिसके बारे में युवा विकेटकीपर सोच भी नहीं सकते। वो अपने तरीके के अनूठे खिलाड़ी हैं जैसा क्रिकेटरों को होना चाहिए।'


एक फिल्म आई थी 'बाजीरॉव मस्तानी' इसका एक डायलॉग 'चीते की चाल, बाज की नजर और बाजीरॉव की तलवार पर कभी संदेह नहीं करते...' बड़ा मशहूर हुआ था। क्रिकेट फैन्स अगर इस डॉयलॉग को सुनें तो उनके सामने सबसे पहली तस्वीर आ जाती है महेंद्र सिंह धौनी की। धौनी के लिए अलग ये डायलॉग लिखा जाता तो कुछ ऐसा होता, 'चीते की चाल, बाज की नजर और धौनी की स्टंपिंग पर कभी संदेह नहीं करते...'