वॉशिंगटन: पाकिस्तान को आतंकवाद के मुद्दे पर खरी-खोटी सुनाने वाले अमेरिका ने पाकिस्तान के लिए 33.6 करोड़ डॉलर की सहायता राशि का प्रस्ताव रखा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने एक अक्तूबर से शुरू होने वाले वित्त वर्ष 2019 के लिए 40 खरब डॉलर का वार्षिक बजट पेश किया. इस बजट में पाकिस्तान के लिए 25.6 करोड़ डॉलर की असैन्य मदद और आठ करोड़ डॉलर की सैन्य मदद का प्रस्ताव दिया गया है.

बता दें कि कुछ हफ्ते पहले ट्रम्प प्रशासन ने आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई ना करने पर पाकिस्तान को मिलने वाली करीब दो अरब डॉलर की सुरक्षा सहायता पर रोक लगा दी थी. हालांकि व्हाइट हाउस ने कहा था कि आतंकी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने पर वह रोक हटाने पर विचार करेगा. हमेशा से ही ये सवाल उठते रहे हैं कि अगर अमेरिका वाकई में आतंकवाद खत्म करना चाहता है तो वो पाकिस्तान की सैन्य सहायता क्यों करता है?

हाल ही में भारत को एक कूटनीतिक जीत मिली थी जब अमेरिका ने आंतकियों के खिलाफ कार्रवाई न करने पर पाकिस्तान की सैन्य मदद रोक दी थी. लेकिन अब एक बार फिर अमेरिका ने पाकिस्तान के लिए आठ करोड़ डॉलर की सैन्य मदद का प्रस्ताव रखा है जो कि भारत के लिए चिंता का विषय है.