पटना : महाशिवरात्रि का पर्व इस बार दो दिन 13 व 14 फरवरी को मनाया जायेगा. पर व्रत को लेकर श्रद्धालुअों में असमंजस है. ज्योतिषयों के अनुसार 13 फरवरी को प्रदोष की मध्यरात्रि में चतुर्दशी तिथि होने से 13 फरवरी को महाशिवरात्रि का व्रत उचित होगा. शास्त्रों व पंचांगों के मुताबिक महाशिवरात्रि का व्रत फाल्गुन मास कृष्ण चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है. 

 

13 फरवरी की रात 10 बज कर 22 मिनट पर चतुर्दशी तिथि प्रारंभ हो रही है, जो अगले दिन 14 फरवरी की रात 12 बज कर 17 मिनट तक रहेगी. शास्त्रों के मुताबिक प्रदोष एवं अर्धरात्रि में व्याप्त चतुर्दशी तिथि में ही शिवरात्रि व्रत मान्य है. पंडित श्रीपति त्रिपाठी के अनुसार जो श्रद्धालु 13 फरवरी को व्रत रखते हैं. वह पारण अगले दिन बुधवार की सुबह करेंगे. वहीं, 14 को व्रत करने वाले शाम में ही पारण कर सकेंगे. क्योंकि व्रत का पारण चतुदर्शी तिथि में किया जाना है.  

 

सीएम ने महाशिवरात्रि की दी बधाई :  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महाशिवरात्रि पर प्रदेश व देशवासियों को शुभकामनाएं दी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पर्व हमारी संस्कृति को और मजबूत बनाता है. मुख्यमंत्री ने आह्वान किया कि सभी सद्भाव के साथ पर्व मनाएं. वहीं राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सभी को पर्व की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि भगवान शिव और माता पार्वती से जीवन में विपरीत परिस्थितियों के बावजूद जग–कल्याण और समत्व के लिए तत्पर रहने की प्रेरणा मिलती है.


अाज शोभायात्रा 

 

श्री श्री महाशिवरात्रि महोत्सव शोभा यात्रा अभिनंदन समिति की ओर से मंगलवार की शाम को छह बजे 14 विभिन्न समितियों द्वारा अलग-अलग स्थानों से शोभा यात्रा निकाली जायेगी. यात्रा अलग-अलग रूटों से होकर गुजरेगी जिसका भव्य अभिनंदन खाजपुरा शिव मंदिर, बेली रोड, पटना में मंच बना कर किया जायेगा. कार्यक्रम का आयोजन मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री, केंद्र सरकार, राज्य सरकार के मंत्री सांसद, विधायकों एवं संत समाज की उपस्थिति में होगा.

 

श्रद्धालु कल भी कर सकेंगे व्रत