राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधराराजे सिंधिया ने मौजूदा सरकार के अंतिम वित्तीय बजट को पेश किया. मुख्यमंत्री सिंधिया ने प्रदेश के किसानों के लिए कर्ज माफी की बड़ी घोषणा की है. वहीं, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कर्ज माफी पर कहा है कि किसानों को भीख की जरूरत नहीं है.


दरअसल, राजस्थान सरकार के बजट पेश होने के कुछ ही देर बाद मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में शिवराज सिंह चौहान ने किसान सम्मेलन को संबोधित किया. इस दौरान किसानों की कर्ज माफी पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि, किसान को भीख नहीं उचित दाम चाहिए.


मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि एक तिहाई डिफॉल्टर किसान हैं. मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना की घोषणा करते हुए बताया कि बकाया ब्याज सरकार भरेगी. किसानों को 2 किश्तों में मूलधन जमा कराना होगा. आधा पैसा चुकाने पर वो 0% ब्याज पर 15 हजार का लोन ले सकेगा. मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार पर समाधान योजना की वजह से 2600 करोड का वित्तीय भार आएगा.


राजस्थान बजट के मुख्य अंश

-वसुंधरा ने बजट भाषण में किसानों का 50 हजार रुपए तक का कर्ज करने की घोषणा की.

-लघु और सीमांत किसानों के लिए की गई इस घोषणा से सरकार पर 8 हजार करोड़ रुपए का भार पड़ेगा.

-कर्ज में सितंबर 2017 तक का ब्याज भी माफ कर दिया गया.

-किसान कर्ज राहत आयोग बनाया गया है