इंदौर का सबसे बड़ा एमवाय अस्पताल एक बार फिर सवालों के घेरे में है. अस्पताल में फैली अव्यवस्थाएं और मरीजों को सुविधाएं नहीं मिलने के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एमवाय अस्पताल के मुख्य द्वार पर जमकर नारेबाजी की. कांग्रेस नेता देवेन्द्र यादव ने बताया कि अस्पताल को करोड़ों रुपए का बजट मिलता है, बावजूद इसके प्रसूता व नवजात की देखभाल के साधन उपलब्ध नहीं है. प्रसूताओं को समय पर पौष्टिक आहर नहीं मिला पा रहा है.


इंदौर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एमवाय अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. दरअसल कांग्रेस कार्यकर्ताओं का कहना है कि अस्पताल में प्रसूति विभाग में महिलाओं को केवल दाल-रोटी मिल रही है. पौष्टिक आहार उन्हें नहीं मिल पा रहा है. ऐसे में इसका बुरा प्रभाव नवजात शिशुओं पर भी पड़ रहा है. इतना ही नहीं मरीजों को इलाज के लिए घंटों इतंजार करना पड़ रहा है.


कांग्रेसियों का कहना है कि जब बाहर से अस्पताल में भोजन ले जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है तो अस्पताल प्रबंधन को पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराना चाहिए. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस नेता देवेन्द्र यादव के नेतृत्व में सीएम के नाम ज्ञापन देकर अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ उचित कार्रवाई की मांग की है.