महाशिवरात्रि पर पूजा करने के लिए भक्तों को विशेष प्रकार की सामग्री की आवश्यकता होती है। इन सब में फूलों का विशेष स्थान होता है। शिवपुराण में बताया गया है कि भगवान शिव की पूजा करने के लिए कई प्रकार के फूल प्रयोग किए जाते हैं। आइए जानते हैं किस फूल के प्रयोग से होगा क्या लाभ... 

- संतान प्राप्ति की इच्छा रखने वाले दंपती इस दिन यदि धतूरे के एक लाख फूलों से शिव उपासना करें तो उनकी मनोकामना जल्द पूरी होगी। लाल डंठल वाला धतूरा पूजन के लिए शुभ माना जाता है।

- अगस्त्य के एक लाख फूल यदि पूजा में शामिल किए जाएं तो ऐसा करने वाले पुरुष को यश की प्राप्ति होगी। 

- तुलसी दल से शिव की आराधना करने से उपासक को भोग और मोक्ष दोनों की प्राप्ति होगी। 

- लाल और सफेद आक, अपामार्ग और श्वेत कमल के पुष्प से पूजा करने से व्यक्ति को मृत्योपरांत स्वर्ग में स्थान मिलता है। 

- जातक यदि जपा के एक लाख फूलों से भगवान शिव की भक्ति करे तो उसके शत्रुओं का नाश होता है। 

- शिवपुराण में बताया गया है कि करबीर के यदि एक लाख फूल शिवपूजन में प्रयोग किए जाएं तो रोगों का नाश होता है। 

- महिलाएं यदि बन्धूक (दुपहरिया) के फूलों से शिव की उपासना करें तो उन्हें आभूषणों की प्राप्ति होगी। 

- पुरुष यदि शिवरात्रि को चमेली के फूल भगवान शिव को चढ़ाएं तो जल्द ही उन्हें वाहन सुख मिलेगा। 

- शमी के फूल भगवान शिव को अतिप्रिय होते हैं। शमी के फूल से शिव की पूजा करने पर व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है। 

- अलसी के फूलों से शिव अराधना करने वाला पुरुष भगवान विष्णु को प्रिय होता है। 

- बेला के फूल चढ़ाने पर शिवजी शुभलक्षणा पत्नी प्रदान करते हैं। 

- हरसिंगार के फूल चढ़ाने से भगवान शिव भक्तों को सुख समृद्धि प्रदान करते हैं। 

- भगवान शिव को एक लाख बेलपत्र अर्पित करने से भौतिक सुख सुविधा की प्राप्ति होती है।