नई दिल्ली: भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच जोनिहसबर्ग में खेले जाने वाला चौथा वनडे आपको पूरी तरह गुलाबी रंग में पुता दिखाई पड़ेगा. दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों की ड्रेस से लेकर, पिच को रोल करन वाला रोलर और प्रैस कॉन्फ्रैंस से लेकर पुरस्कार समारोह के दौरान पीछे लगने वाली वॉल सहित और कई चीजें आपको न्यूवांडर्स में गुलाबी रंग में रंगे दिखाई पड़ेंगे. और यही नहीं मैदान पर जमा होने वाले हजारों दर्शक भी आपको अलग-अलग तरह की गुलाबी रंग की ड्रेस और परिधान में मैच का लुत्फ लेते दिखाई पड़ेंगे.

अगर ऐसा है, तो इसके पीछे है बहुत ही खास वजह और एक बड़ा अभियान, जिसे क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका, मेजबान क्रिकेटप्रेमी और कई बड़े प्रायोजक भी पिछले कई सालों से समर्थन कर रहे हैं. इस अभियान का नाम है #Pitchcupinpink. वैसे दक्षिण अफ्रीकी टीम के साथ पिंक कलर का बहुत ही गहरा रिश्ता है. और एक बहुत ही खास बात इस रंग को लेकर टीम दक्षिण अफ्रीका से जुड़ी हुई है, जिसके बारे में आप नहीं ही जानते होंगे. लेकिन हम आगे आपको इसके बारे में बताएंगे.

बता दें कि इस मुकाबले को देखने के लिए स्टेडियम के भीतर जमा होने वाले हजारों दर्शक बहुत ही जोर-शोर से गुलाबी रंग की अलग-अलग तरह की ड्रेस और परिधान खरीद रहे हैं, तो वहीं स्टेडियम के भीतर कई रोमांचक आयोजनों की जोरदार तैयारियां चल रही हैं. दक्षिण अफ्रीका ने इस मैच को यादगार बनाने के लिए सबकुछ झोंक दिया है. जो क्रिकेटप्रेमी इस दिन गुलीब ड्रेस पहनकर स्टेडियम आएंगे, वे कई रोमांचक आयोजनों में शिरकत करेंगे. 

पिंक-डे में शिरकत करने वाले लोग इस दिन स्टेडियम के पास फैनवॉक परेड में हिस्सा लेंगे. ऐसा करके ये लोग दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट प्रशंसकों और पूरे देश को एक बहुत ही खास संदेश देंगे. यह पिंकवॉक क्रिकेटप्रेमियों को स्टेडियम के भीतर प्रवेश से पहले पिंक-डे की शुरुआत कराएगी. 

स्टेडियम के भीतर खास तौर पर बुलरिंग बनाए गए हैं और इनकी बालकनी बहुत ही शानदार हैं. इन बुलरिंग में सेलीब्रिटी और बाकी नामी-गिरामी हस्तियां बैठेंगी. इस स्थान से सेलीब्रिटी लोग भी पूरे दक्षिण अफ्रीका को खास संदेश देंगे.वहीं मैच में लच के दौरान पिकंडे के प्रशसंक मैदान के भीतर भी इकट्ठा होकर वांडर्स स्टेडियम में जमा हजारों क्रिकेटप्रेमियों के नजारे का लुत्फ उठा सकते हैं. 

बता दें कि दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड, खिलाड़ी और एनजीओ मिलकर महिलाओं में होने वाले ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरुकता फैलाने और पैसा जुटाने के लिए पिछले कई सालों से काम कर रहे हैं. खास बात यह है कि जब-जब दक्षिण अफ्रीकी टीम इस गुलामी रंग की जर्सी में खेली है, तो वह हमेशा जीती है. इस जर्सी में उसने एक भी मैच नहीं हारा है. अब देखने की बात यह होगी कि शनिवार को पिंकडे पर गुलाबी रंग फिर से उसके लिए भाग्यशाली साबित होता है, या नहीं.