इस साल का दूसरा ग्रहण और पहला सूर्यग्रहण 16 फरवरी को लगने वाला है। यह ग्रहण15 फरवरी (गुरुवार) की रात 12.25 मिनट से लगेगा, जो कि सुबह प्रात: 4.18 तक रहेगा। ऐसे में यह 16 फरवरी को लगेगा, पर भारत में रात होने के कारण यह यहां दिखाई नहीं देगा।

ज्योतिषों के मुताबिक यह विदेशों में दक्षिण जार्जिया, प्रशांत महासागर, चिली, ब्राजील और अंटार्कटिका आदि देशों में दिखाई देगा। हालांकि, इसका असर भारत में भी सभी राशियों पर पड़ेगा। लगभग 15 दिनों के अंतराल पर साल 2018 का दूसरा ग्रहण देखने को मिलेगा।


16 फरवरी को साल का पहला सूर्यग्रहण पड़ने जा रहा है। इससे पहले पिछले महीने की 31 जनवरी को चंद्रग्रहण हुआ था। जो पूरे भारत में दिखाई दिया था। इस साल पूरे 3 सूर्यग्रहण पडे़ंगे।


ऐसे होता है सूर्य ग्रहण


सूर्य ग्रहण तब लगता है जब पृथ्वी और सूरज के बीच चंद्रमा आ जाता है। सूर्य ग्रहण का सूतक काल और उस दौरान कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए। जानते हैं इसके बारे में...


ग्रहण काल के समय कोई भी चीज न खाएं-पीएं। दूध, दही जैसी चीजों में तुलसी डालकर रखें।


भगवान का ध्यान करते हुए पूजा, जप, दान आदि धार्मिक कार्य करें। पूजास्थल को ढंक कर रखें।


ग्रहण काल में पढ़ाई शुरु न करें। ग्रहण लगने के पहले से पढ़ रहे हों, तो बाद तक पढ़ते रहें।


ग्रहण समाप्ति पर पूजा स्थल को साफ कर गंगाजल का छिड़काव करें। मूर्ति को भी गंगाजल से स्नान करवाएं।


इस समय नवग्रहों का दान करना भी लाभकारी रहेगा। दान किसी मंदिर में या जरूरतमंद को दें।