छत्तीसगढ़ के नारायणपुर की गैंगरेप पीड़ित नाबालिग का मंगलवार को रायपुर के मेकाहारा शासकीय अस्पताल में आॅपरेशन हुआ. 13 साल की नाबालिग का ऑपरेशन कर गर्भ से 24 सप्ताह की बच्ची निकाली गई. नवजात की स्थिति गंभीर है.नवजात को इनक्यूबेटर में रखा गया है.


बता दें कि बिलासपुर हाई कोर्ट ने पीड़िता का गर्भपात कराने के आदेश शासन को दिए थे. पांच विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम ने गर्भपात की कोशिश की, लेकिन गर्भपात नहीं होने पर आॅपरेशन किया गया. मिली जानकारी के मुताबिक गैंगरेप पीड़िता नाबालिग की भी स्थिति गंभीर है.


बता दें कि नारायणपुर की रहने वाली 13 साल की मासूम के साथ गैंगरेप हुआ था. जनवरी 2018 में उसके गर्भधारण करने का खुलासा हुआ. खुलासा के बाद गर्भ 20 सप्ताह का हो चुका था. जगदलपुर मेडिकल कॉलेज ने जांच के बाद पीड़िता के अबॉर्शन कराने में शारीरिक अक्षमता बताया और आबर्शन के अनुमति नहीं दी.


शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना झेल रही किशोरी ने अपनी मां के साथ हाई कोर्ट में याचिका दायर की. इसमें अबॉर्शन कराने की अनुमति मांगी गई थी. जिसको कोर्ट ने स्वीकार कर अबॉर्शन कराने अनुमति देते हुए शासन को आदेश दिए थे.