यह बात शायद ही आपको मालूम हो कि कोई भी व्यक्ति अपने मूड और व्यक्तित्व के आधार पर ही फूलों को पसंद-नापसंद करता है। अगर किसी व्यक्ति को पसंदीदा फूल के बारे में जानकारी मिल जाए तो उस व्यक्ति के स्वभाव व रुचि के विषय में काफी कुछ जाना जा सकता है। यहां उन्हीं बातों को बताया जा रहा है जिनके माध्यम से एक प्रेमी अपनी प्रेमिका के दिल के हाल को जान सकता है और एक प्रेमिका अपने प्रेमी के दिल के हाल को बिना बताए ही जान सकती है।



अगर किसी को गेंदे का फूल पसंद है तो वह जातक (पुरुष या महिला) जमीनी हकीकत से परिचित रहकर आसमान में उडऩे वाले नहीं होते। वे ऐसे किसी भी काम को नहीं करते जिससे परिवार या समाज की अप्रतिष्ठा हो। किसी भी काम को करने से पहले अच्छी तरह सोचने-विचारने की उनमें क्षमता होती है। पीला रंग भाग्यशाली तथा बुद्धिमानी का प्रतीक होता है। ऐसे लोग पढ़ाई के क्षेत्र में काफी कुछ हासिल कर लेते हैं। यह रंग शरीर में पित्त को नियंत्रित रखता है।



अगर किसी को गुलाब का फूल पसंद है तो वह जातक (पुरुष या महिला) सभ्यता के दायरे में रहने वाला शान्तिप्रिय व्यक्ति होता है। इसके जीवन में स्टाइल झलकता है। ऐसा व्यक्ति संस्कारवान होने के साथ ही रुढि़वादी भी होता है।



गुलाबी रंग दोस्ताना व्यवहार का सूचक है। किसी भी रिश्ते में स्वयं को समर्पित कर देने की भावना से युक्त ऐसा व्यक्ति कलाप्रेमी भी होता है। जिस किसी जातक को बेला, चमेली, मोगरा के फूल पसंद हों, वह (पुरुष या स्त्री) अपने जीवन से बहुत प्यार करता है। जिस तरह चमेली का फूल अपनी खुशबू हर तरफ बिखेरता है, उसी प्रकार ये भी अपने आस-पास के व्यक्तियों पर प्रभाव डालने वाले होते हैं। सबके हृदय पर राज करने का गुर इन्हें आता है। स्वच्छ हृदय से युक्त, शान्तिप्रिय, अच्छे व्यवहारों को पसंद करने वाले ऐसे होते हैं।



अगर आपको सूरजमुखी, गुलदाऊदी, डैफोडिल, सरीखे फूल पसंद हैं तो आप नाटकीय स्वभाव के हैं। आप कोई भी निर्णय ताव मेें आकर लेते हैं। ऐसे जातक यही चाहते हैं कि जहां भी रहें, आकर्षण का केन्द्र बनकर ही रहें। ऐसे जातक भावुक होने के कारण बहुत जल्दी धैर्य खो बैठते हैं। भावना में बहकर अपना तन-मन तक लुटाने से नहीं हिचकते। अगर किसी शख्स को लाल रंग अधिक पसंद हो, तो वह अपने प्यार की खातिर सर्वस्व त्यागने को भी तैयार रहता है। कारनैशनल, नैरसिसम, ऑरकिड एवं ट्यूलिप फूलों को पसंद करने वाले नखरीले स्वभाव वाले होते हैं। जिस प्रकार इन फूलों को अधिक देखभाल की जरूरत होती है, उसी प्रकार इनको भी नखरे उठाने वाले साथी ही पसंद आते हैं। हॉलीहॉक या डॉग फ्लावर सरीखे फूलों को पसंद करने वाले जातक लोगों से थोड़ा हटकर सोचने वाले और कल्पनाशील हुआ करते हैं।



ड्राई फ्लावर अरेंजमैंट्स या लिली सरीखे फूलों को पसंद करने वाले पार्टियों में जाना बहुत पसंद करते हैं तथा वे एकदम सहज नहीं रह सकते। ऐसे जातक रूमानी प्रवृत्ति के तथा जिन्दादिल हुआ करते हैं। इनके बीच कोई भी सामाजिक लक्ष्मण रेखा काम नहीं करती क्योंकि ये सभी प्रकार के सुखों को जल्द से जल्द पा लेने के इच्छुक होते हैं। जिन व्यक्तियों को खिले फूल अधिक पसंद होते हैं तथा फूलों के गुच्छे अधिक पसंद होते है, वे परंपराओं में अधिक विश्वास रखते हैं। वे रूढि़वादी, आत्मविश्वासी एवं सभी के प्रिय होते हैं। इनकी प्राथमिकता अपना परिवार होता है। ये कोई भी निर्णय लेने से पहले कई बार सोचते हैं। फूलों के गुच्छे में लगे हुए कांटे भी इन्हें बुरे नहीं लगते क्योंकि वे उनको सुरक्षा का एहसास दिलाते रहते हैं। 



ऐसे शख्स जिन्हें फूलों की सुगंध तो अच्छी लगती है किन्तु कोई फूल विशेष अच्छा नहीं लगता, वे पूरे स्वार्थी होते हैं। स्वार्थ के कारण ही वे संबंध बनाते है और स्वार्थपूर्ति के बाद उनके संबंधों की इतिश्री हो जाया करती है। ऐसे जातक कार्य निकलने तक शहद के समान मीठे रहते हैं और कार्य निकल जाने के बाद करेले की तरह कड़वे हो जाते हैं।