नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन देशों की विदेश यात्रा के लिए नौ फरवरी को रवाना होंगे। इस बार पीएम फिलिस्तीन, यूएइ और ओमान की यात्रा तय करने जा रहे हैं। पीएम की यात्रा के दौरान भारत और खाड़ी देशों के बीच व्यापार, निवेश, सुरक्षा, आतंकवाद के खिलाफ सहयोग, ऊर्जा समेत कई महत्वपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों पर जोर दिया जाएगा। पीएम की यह यात्रा नौ फरवरी से 12 फरवरी तक होगी।


विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (खाड़ी) मृदुल कुमार ने बताया, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और ओमान की यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी खाड़ी क्षेत्र में विभिन्न कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों से मिलेंगे। यूएई में प्रधानमंत्री मोदी छठे वर्ल्ड गवर्नमेंट शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। इस सम्मेलन में पीएममोदी ‘विकास के लिए प्रौद्योगिकी’ विषय पर संबोधन देंगे। मृदुल कुमार ने कहा कि यह प्रधानमंत्री को विश्व समुदाय के साथ संलग्न करने के लिए एक मंच भी प्रदान करेगा। पीएम मोदी के तीन दिवसीय विदेश यात्रा का समापन 12 फरवरी को होगा।

नई दिल्ली (पीटीआइ)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन देशों की विदेश यात्रा के लिए नौ फरवरी को रवाना होंगे। इस बार पीएम फिलिस्तीन, यूएइ और ओमान की यात्रा तय करने जा रहे हैं। पीएम की यात्रा के दौरान भारत और खाड़ी देशों के बीच व्यापार, निवेश, सुरक्षा, आतंकवाद के खिलाफ सहयोग, ऊर्जा समेत कई महत्वपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों पर जोर दिया जाएगा। पीएम की यह यात्रा नौ फरवरी से 12 फरवरी तक होगी।


विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (खाड़ी) मृदुल कुमार ने बताया, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और ओमान की यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी खाड़ी क्षेत्र में विभिन्न कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों से मिलेंगे। यूएई में प्रधानमंत्री मोदी छठे वर्ल्ड गवर्नमेंट शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। इस सम्मेलन में पीएममोदी ‘विकास के लिए प्रौद्योगिकी’ विषय पर संबोधन देंगे। मृदुल कुमार ने कहा कि यह प्रधानमंत्री को विश्व समुदाय के साथ संलग्न करने के लिए एक मंच भी प्रदान करेगा। पीएम मोदी के तीन दिवसीय विदेश यात्रा का समापन 12 फरवरी को होगा।


गौरतलब है कि भारत इजरायल के बढ़ते सहयोग के साथ ही फिलिस्तीन के साथ भी संबंधों को मजबूत और संतुलित करना चाहता है। हाल ही में इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहु ने भारत की छह दिवसीय यात्रा की थी। उससे पहले मोदी भी इजरायल यात्रा पर गए थे, लेकिन फिलिस्तीन नहीं पहुंचे थे। विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि फिलिस्तीन के मुद्दे पर भारत ने विभिन्न पहल की हैं।


वहीं,10 फरवरी को देर शाम मोदी संयुक्त अरब अमीरात (यूएइ) पहुंचेंगे और दुबई में छठे वर्ल्ड गवर्नमेंट शिखर सम्मेलन को संबोधित करेंगे। यह यूएइ की उनकी दूसरी यात्रा होगी। अगस्त, 2015 में उन्होंने पहली बार प्रधानमंत्री के रूप में यूएइ का दौरा किया था। पीएम मोदी अबू धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहयान के साथ भी बातचीत करेंगे। कुमार ने कहा कि भारत और संयुक्त अरब अमीरात ने 2017 में व्यापक रणनीतिक साझेदारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे और इस संबंध में वह सम्बद्ध होगा। विदेश मंत्रालय से मिला जानकारी के मुताबिक कि 11 फरवरी को प्रधानमंत्री यूएई के शहीद सैनिकों के स्मारक जाएंगे। यहां वे एक सामुदायिक कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे। उनका वहां एक मंदिर की आधारशिकाल रखने का भी कार्यक्रम है। प्रधानमंत्री की यूएई यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच व्यापार, निवेश एवं ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग को मजबूत बनाने पर चर्चा होगी।


भारत के कुल द्विपक्षीय कारोबार में यूएई समेत छह खाड़ी देशों की बड़ी हिस्सेदारी है। कुमार ने कहा कि खाड़ी सहयोग परिषद (जीसीसी) के छह देशों (सऊदी अरब, कुवैत, संयुक्त अरब अमीरात, कतर, बहरीन और ओमान) के राजनीतिक और आर्थिक गठबंधन में भारत के व्यापार का 20 प्रतिशत हिस्सा है। इन देशों के साथ कुल तेल आयात का करीब 50 प्रतिशत हिस्सा है और 60-65 प्रतिशत एलएनजी में भी इन देशों की बड़ी हिस्सेदारी है। कुमार ने बताया 90 लाख भारतीय खाड़ी में रहते हैं और प्रेषण के मामले में हर साल 35 अरब डॉलर भेजते हैं। भारत का पहला सामरिक तेल रिजर्व संयुक्त अरब अमीरात की मदद से मैंगलोर में शुरू हो रहा है और इसकी क्षमता 5.86 मिलियन बैरल होगी।


12 फरवरी को ओमान पहुंचेंगे पीएम


11 फरवरी को मोदी ओमान के लिए रवाना होंगे। 12 फरवरी को वे ओमान के सीईओ के समूह के साथ चर्चा करेंगे। वहीं शिव मंदिर भी जाएंगे। प्रधानमंत्री वहां के दो उप प्रधानमंत्रियों के साथ मुलाकात करेंगे। भारत और ओमान के बीच काफी करीबी सामरिक संबंध है। दोनों देशों की सेनाओं के बीच अभ्यास भी हुए हैं। ओमान हमारे जहाजों को सुविधाएं प्रदान करता है, साथ ही हमारे हवाई जहाजों को रिफ्यूलिंग की सुविधा भी प्रदान करता है.