इंदौर। नोटबंदी को भले ही सालभर से ज्यादा बीत चुका है लेकिन उस दौर की कार्रवाई अब भी जारी है। नोटबंदी के बाद इंदौर क्षेत्र में पांच हजार से ज्यादा लोग आयकार के निशाने पर हैं। प्रारंभिक जांच में दो हजार से ज्यादा पर बैंक खातों के जरिए कालाधान खपाने की पुष्टि हो चुकी है।

चीफ कमिश्नर इनकम टैक्स अजयकुमार चौहान ने कहा कि नोटबंदी के बाद कुल 5160 लोगों की जांच की गई। इनमें से 2100 पर नोटबंदी के दौरान बैंक खातों के जरिए कालाधान खपाने और रिजर्व बैंक के नियमों का उल्लंघन करने के तथ्य मिले हैं। नोटिस जारी करने के बाद विभाग ने आगे की कार्रवाई भी शुरू कर दी है।


गणतंत्र दिवस पर चीफ कमिश्नर ने दो नए अभियान शुरू करने का भी ऐलान किया। पहले को आयकर संग्रहण अभियान और दूसरे को आयकरदाता विस्तार अभियान नाम दिया गया है। चीफ कमिश्नर चौहान के मुताबिक, आयकर इंदौर क्षेत्र को कुल 1 लाख 57 हजार नए आयकरदाता जोड़ने का लक्ष्‌य दिया गया है।


एनआरआई के पीछे पहुंचे अधिकारी


चौहान के मुताबिक, अधिकारियों ने अब कर जमा नहीं करने वाले एक-एक करदाता तक पहुंचने और कर चोरी करने वालों पर कार्रवाई शुरू कर दी है। इंदौर से दुबई में बस चुके एक एनआरआई पर हाल ही में इसी तरह की कार्रवाई की गई। अरसे से वह आयकर नहीं चुका रहा था। कई नोटिसों के बाद जवाब नहीं मिलने पर अधिकारी ने उसकी निगरानी शुरू की। हाल ही में जब वह इंदौर पहुंचा तो अधिकारी नोटिस लेकर उसके पास पहुंच गए। कार्रवाई के डर से उसने हाथों-हाथ बकाया कर जमा भी करवा दिया।