बिलासपुर। देश को 2025 तक टीबी मुक्त राष्ट्र बनाने के लिए केंद्र सरकार ने नए कदम उठाए हैं। इसके तहत सिम्स को जेनएक्सपर्ट मशीन दी गई है। यह मशीन सिर्फ दो घंटे में टीबी का पता लगा सकती है। गुस्र्वार को सिम्स एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें डब्ल्यूएचओ के कंसलटेंट प्रमुख डॉ. क्षितिज खापड़े ने बताया कि टीबी जैसी बीमारी से लड़ने के लिए केंद्र सरकार ने नई गाइड लाइन जारी की है।

इसके अंतर्गत टीबी मरीजों का नए सिरे से उपचार किया जाएगा। इसके लिए सिम्स प्रबंध्ान को जेनएक्सपर्ट मशीन दी गई है। तत्काल जांच रिपोर्ट मिलने से उपचार भी तुरंत शुरू किया जा सकता है। सिम्स के टीबी रोग विशेषज्ञ डॉ. पुनित भारद्वाज ने बताया कि अब मरीजों को नई कॉम्बिनेशन की दवाइयां उपलब्ध कराई जाएगी।


फरवरी से मिलेगी सुविधा


जेनएक्सपर्ट मशीन स्टाल की जा रही है। इस मशीन की सुविधा फरवरी से मिलने लगेगी। -डॉ. रमणेश मूर्ति, एमएस, सिम्स