नई दिल्ली: दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने अपने 20 विधायकों को अयोग्य करार दिए जाने की निर्वाचन आयोग की सिफारिश के बीच शनिवार को इस विषय पर चर्चा करने के लिए एक बैठक बुलाई, जबकि बीजेपी और कांग्रेस इन निर्वाचन क्षेत्रों में उपचुनाव की संभावनाएं तलाश रही हैं.


सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास पर बुलाई गई आप की बैठक से बाहर निकलते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि इस मामले में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से हस्तक्षेप करने का अनुरोध करने के लिए उनसे मुलाकात करने का समय मांगा गया है. केजरीवाल, सिसोदिया और आप के अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ हुई बैठक में वे 20 विधायक भी शामिल हुए जिन्हें अयोग्य करार दिए जाने की सिफारिश की गई है. बैटक में इस बात पर चर्चा की गई कि इस मामले में अगला कदम क्या उठाया जाए.सिसोदिया ने कहा, ‘‘विधायक राष्ट्रपति से अनुरोध करेंगे कि वह निर्वाचन आयोग की सिफारिश को लौटा दें और विधायकों की बात सुनें तथा उन्हें इस बात के सबूत प्रस्तुत करने का मौका दें कि उन्होंने लाभ का पद हासिल नहीं किया.’’उधर, आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य ठहराने की चुनाव आयोग की सिफारिश को लेकर दिल्ली कांग्रेस उत्साहित है. कांग्रेस ने संबद्ध विधानसभा क्षेत्रों में संभावित उपचुनावों के लिए योजना बनानी भी शुरू कर दी है. दिल्ली कांग्रेस प्रमुख अजय माकन और कांग्रेस की प्रदेश इकाई प्रभारी पीसी चाको शुक्रवार को एक बैठक में शरीक हुए. इसमें 20 विधानसभा क्षेत्रों में संभावित चुनावों के बारे में चर्चा की गई. इन क्षेत्रों में कांग्रेस जल्द ही सम्मेलनों का आयोजन करने की तैयारी करने लगी है.