बिलासपुर। विशेष न्यायाधीश(एट्रोसिटी) ने ट्यूशन टीचर से दुष्कर्म करने वाले छात्र को 7 वर्ष कैद की सजा सुनाई है। साथ ही 25 हजार रुपए अर्थदंड लगाया है। गौरेला थाना क्षेत्र के ज्योतिपुर निवासी अभिषेक माइकल पिता यार्मियाह माइकल(28) सितंबर 2015 में गौरेला के निजी स्कूल में टीचर युवती के पास अंग्रेजी का ट्यूशन पढ़ने जाता था। युवक शिक्षिका से एकतरफा प्रेम करने लगा।एक दिन उसने प्रेम का इजहार कर शादी का प्रस्ताव रखा। इस पर शिक्षिका ने उसे पढ़ाई पर ध्यान देने की समझाइश दी। इसके बाद सितंबर में ही आरोपी ने शिक्षिका के गांव जाकर माफी मांगी और फिर से पढ़ाने का निवेदन किया। इस पर शिक्षिका मान गई।


फिर उसने शिक्षिका को कुछ दूर छोड़ देने की बात कहकर मोटरसाइकिल पर बैठा लिया। तालाब के पास पहुंचकर गाड़ी रोक दी। उसने शिक्षिका को बलपूर्वक खेत ले गया दुष्कर्म किया। इसके अलावा मोबाइल से अश्लील फोटो खींच लिया।


बाद में अश्लील फोटो छात्रों को दिखाने और नेट में अपलोड करने की धमकी देकर कई बार दुष्कर्म किया। शादी के लिए दबाव डालने पर आरोपी ने शिक्षिका के साथ 20 मार्च 2016 को मारपीट कर घर से निकाल दिया। पीड़िता ने मामले की गौरेला थाने में शिकायत की।


पुलिस ने विवेचना उपरांत आरोपी अभिषेक माइकल के खिलाफ धारा 376 (2) एवं एट्रोसिटी एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्घ किया। विशेष न्यायाधीश (एट्रोसिटी) सुरेश कुमार सोनी ने दोष सिद्घ होने पर आरोपी को धारा 376 में 7 वर्ष कैद और 25 हजार रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई है। अर्थदंड में से 20 हजार रुपए पीड़िता को क्षतिपूर्ति के रूप में दिया जाएगा।