हाल में ही इंटरनेट पर एक खबर छायी रही जिसमें एक पति ने अपनी पत्नी को सिर्फ इसलिए तलाक दे दिया है क्योंकि उसकी पत्नी पर्सनल हाइजीन का ध्यान नहीं रखती थी। अमेरिका के सेन्सस ब्यूरो ने 5 साल के अमेरिकन कम्यूनिटी सर्वे के नतीजे बताते हैं कि कौन सी जॉब करने वालों का डिवॉर्स यानी तलाक सबसे ज्यादा होता है। आप भी पढ़ें, उन करियर चॉइस के बारे में जो आपके रिश्ते को तलाक तक ले जा सकता है...

बहुत से लोगों को एयर होस्टेस या फ्लाइट अटेंडेंट्स की लाइफ किसी मॉडल या सिलेब्रिटी जैसी ग्लैमरस लगती है। उन्हें बिना कोई पैसा खर्च किए उन जगहों पर जाने का मौका मिलता है जहां हर आदमी लाइफ में कम से कम एक बार जरूर जाना चाहता है। ये लोग बेस्ट होटल में ठहरते हैं, अलग-अलग तरह के लोगों से मिलते हैं और हमेशा टिप-टॉप और अच्छा दिखना उनकी पसंद नहीं बल्कि जरूरत है। इन सभी फायदों के साथ ही इस जॉब का जो हानिकारक पक्ष है वह यह है कि इसमें डिवॉर्स रेट 50.5 प्रतिशत है और इसकी सबसे बड़ी वजह है फ्लाइट अटेंडेंट्स का बिजी ट्रैवल शेड्यूल। इस वजह से ये लोग अपने पार्टनर के साथ बहुत कम वक्त बिता पाते हैं।
बारटेंडर्स के प्रफेशन में डिवॉर्स रेट 52.7 प्रतिशत है और इसकी दो सबसे बड़ी वजहें हैं- देर रात तक काम करना और ऐल्कॉहॉल जो किसी भी रिश्ते को बर्बाद कर सकता है। कई बार बारटेंडर्स को शराब के नशे में धुत कस्टमर्स के साथ ही दोस्ताना व्यवहार करना पड़ता है। ऐसे में जब बारटेंडर्स इस तरह के लोगों से नियमित रूप से मिलते हैं तो उनके साथ इमोशनली जुड़ने की उनकी संभावना बढ़ जाती है।
गेमिंग, भले ही आपके लिए फन और मस्ती से भरा हो लेकिन उन मैनेजर्स के लिए नहीं जो होटल और रिजॉर्ट में कसीनो या गेम रूम देखते हैं। सर्वे के नतीजों के मुताबिक, गेमिंग मैनेजर्स के प्रफेशन में डिवॉर्स रेट सबसे ज्यादा 52.9 प्रतिशत है। इन लोगों का जॉब इतना डिमांडिंग होता है कि इन लोगों को अपने पार्टनर के साथ वक्त बिताने का समय बड़ी मुश्किल से ही मिल पाता है।इस फील्ड के प्रफेशनल्स की शादीशुदा लाइफ में डिवॉर्स रेट 49.7 प्रतिशत है जिसकी वजह से इस तरह की जॉब से जुड़े लोगों की प्रफेशनल लाइफ में स्ट्रेस का बढ़ता लेवल। इन लोगों के दिन की शुरुआत ही होती है उन कस्टमर्स के कॉल्स के साथ जो अपनी समस्याएं उन्हें बताते हैं। वे अपना पूरा दिन कस्टमर और क्लायंट की समस्याएं सुलझाने में बिता देते हैं। यही वजह है कि उनकी प्रफेशनल लाइफ का स्ट्रेस उनकी पर्सनल लाइफ पर भी दिखने लगता है।