नई दिल्ली संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत की ऑफिशियल रिलीज डेट वॉयकॉम 18 ने जारी कर दी है. ये फिल्म 25 जनवरी को सिनेमाघरों में दिखाई जाएगी. फिल्म तीन भाषाओं तमिल, तेलुगु और हिंदी में रिलीज होगी. दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह ने भी ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है. निर्माताओं ने नए टाइटल के साथ पोस्टर भी जारी किया है. सेंसर ने पांच मॉडिफिकेशन के साथ फिल्म को "U/A" सर्टिफिकेट दिया है.  इस सर्टिफिकेट वाली फ़िल्में नाबालिग बच्चों को अकेले देखने की अनुमति नहीं है.


यह देश की पहली ऐसी हिंदी फिल्म होगी जो IMAX 3D हिंदी में रिलीज होगी. हाल ही में सीबीएफसी के आदेश के बाद इसका नाम बदला गया है. फिल्म के निर्माताओं ने फेसबुक पर इसके वेरिफाइड अकाउंट का नाम बदलकर पद्मावत कर दिया है.


Viacom18 मोशन पिक्चर के सीओओ अजीत अंधारे ने कहा, पद्मावत राजपूतों की वीरता को ट्रिब्यूट है, जिसे बड़ी स्क्रीन पर देखना मजेदार होगा. फिल्म को भारत और दुनियाभर में 2D, 3D और Imax 3D में रिलीज किया जाएगा. फिल्म संजय लीला भंसाली के ट्रेडमार्क स्टाइल में बनाई गई है. हमने पैरामाउंट पिक्चर्स के साथ फिल्म को डिस्ट्रीब्यूट करने के लिए पार्टनरशिप की है. फिल्म दुनियाभर में 25 जनवरी को रिलीज होगी.


अक्षय कुमार की पैडमैन के साथ भिड़ंत


दीपिका, रणवीर सिंह और शाहिद कपूर स्टारर पद्मावत के जिस तारीख को रिलीज हो रही है उसी डेट पर अक्षय कुमार की पैडमैन भी रिलीज हो रही है. यह फिल्म सामाजिक मुद्दे पर आधारित है. पहले चर्चा थी कि पद्मावत की वजह से पैडमैन की डेट आगे खिसकेगी लेकिन निर्माता पहले से निर्धारित डेट पर ही फिल्म रिलीज को तैयार हैं. हालांकि पद्मावत के ठीक एक दिन बाद रिलीज होने वाली फिल्म अय्यारी की डेट्स आगे बढ़ा दी गई. नीरज पांडे की ये फिल्म अब 9 फरवरी को रिलीज होगी.


सिनेमाघरों को जलाने की धमकी


करणी सेना ने पूरे देश में फिल्म की रिलीज पर आपत्ति जताई है. धमकी भी दी है कि अगर फिल्म रिलीज हुई तो सिनेमाघरों को जला दिया जाएगा. करणी सेना के एक नेता ने यहां तक कहा कि अगर नाम बदलने से कोई चीज बदल जाती है तो हम पेट्रोल को गंगाजल समझकर सिनेमाघरों में छिड़कर आग लगा देंगे.


भंसाली के फिल्म की शूटिंग शुरू होने के बाद से ही करणी सेना लगातार विरोध कर रही है. आरोप है कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की गई है. रानी पद्मिनी के चरित्र को गलत तरीके से पेश किया गया. शनिवार को भी करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने सेंसर बोर्ड के ऑफिस के बाहर प्रदर्शन करने की कोशिश भी की. 96 कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया था.

बता दें कि पिछले साल 1 दिसंबर को सर्टिफिकेशन की प्रक्रिया में कमी के चलते सेंसर में फिल्म पास नहीं हो पाई थी. इस वजह से निर्माताओं की ओर से तय रिलीज पर पद्मावत सिनेमाघरों तक नहीं पहुंच पाई. दोबारा प्रक्रिया शुरू होने के बाद खबरें हैं कि सेंसर ने कुछ बदलाव के साथ फिल्म को मंजूर कर लिया है. पहले भी सूत्रों ने फिल्म के 25 या 26 जनवरी को रिलीज होने की संभावना जताई थी.

राजस्थान के बाद इन दो राज्यों ने भी किया बैन


मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान और गुजरात में विजय रूपाणी ने पहले की गई घोषणा के मुताबिक़ पद्मावत पर बैन जारी रखने का फैसला किया है. शनिवार को रूपाणी ने कहा, गुजरात में चुनाव से पहले ही 'पद्मावत' पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, जिसे अभी भी बरकरार रखा गया है. गुजरात में फिल्म रिलीज नहीं होगी. इससे पहले वसुंधरा राजे सरकार ने भी राजस्थान में फिल्म के प्रदर्शन को रोक दिया है. बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ पर मचे घमासान के बाद यूपी, उत्तराखंड और पंजाब जैसे राज्यों ने भी विवादित कंटेंट के साथ फिल्म की रिलीज रोकने की बात की थी.


हिमाचल में भी बैन हो सकती है फिल्म?


कुछ दिन पहले इस तरह की खबरें भी आई थीं कि हिमाचल सरकार ने भी फिल्म के प्रदर्शन से हाथ खींच लिए हैं. सूत्रों के मुताबिक़ सरकार नहीं चाहती कि राज्य में इस फिल्म का प्रदर्शन हो. गोवा में पुलिस ने राज्य सरकार से सिफारिश की है कि पद्मावत रिलीज नहीं की जाए. इसके पीछे गोवा पुलिस का तर्क है, यह सीजन पर्यटकों का है. फिल्म रिलीज होने पर हिंसा या विवाद भड़क सकते हैं. मुंबई पुलिस ने 26 जनवरी के मौके पर सिक्योरिटी कारणों के चलते फिल्म की रिलीज को टालने की बात की है.


सेंसर ने बनाई थी स्पेशल कमेटी


कुछ ही दिन पहले सेंसर ने फिल्म की सर्टिफिकेशन प्रक्रिया पूरी होने की जानकारी दी थी. सेंसर ने इसके लिए कमेटी गठित की थी. कमेटी की सिफारिशों के बाद निर्माताओं के साथ एक मीटिंग में फिल्म में 5 जरूरी बदलाव सुझाए गए थे. ये बदलाव उन बिंदुओं पर हैं जिन्हें लेकर पिछले कई महीनों से दीपिका की फिल्म पद्मावत का विरोध किया जा रहा है. सेंसर ने फिल्म को U/A सर्टिफिकेट दिया है.