नई दिल्ली आगामी असेंबली चुनावों को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी काफी सक्रिय हो चुके हैं। इसी क्रम में राहुल ने शनिवार को कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया और कांग्रेस नेताओं के साथ मुलाकात की। मुलाकात में आगामी कर्नाटक विधानसभा चुनाव की रणनीति को लेकर चर्चा हुई। दरअसल, कांग्रेस की कोशिश वहां अपनी सरकार बचाने की है। मीटिंग में जहां राहुल ने वहां के मुद्दों के बारे में चर्चा की, वहीं अपनी पार्टी को हिदायत दी कि बीजेपी हिंदुत्व का मुद्दा लेकर तमाम हथंकडे अपनाएगी, लेकिन हमें उसके ट्रैप में आने की जरूरत नहीं है।

बताया जा रहा है कि राहुल गांधी के सरकारी आवास पर हुई मीटिंग दो घंटे से ज्यादा चली। गौरतलब है कि कर्नाटक में चुनावी बिगुल फूंकने के लिए राहुल गांधी अगले महीने राज्य का दौरा करेंगे। जहां वह 10 से 12 फरवरी तक रहेंगे। इस दौरान राहुल रैलियों और बैठकें करने के अलावा किसानों, महिलाओं, छात्रों के अलग-अलग समूहों से मुलाकात भी करेंगे। 


सूत्रों के मुताबिक, राहुल गांधी ने कनार्टक की टीम से वहां के प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की। उनसे वहां के स्थानीय और राष्ट्रीय स्तर के मुद्दों के बारे में विस्तार से जाना और किस तरह से चुनाव में उनका इस्तेमाल होना है, इस पर बात की। बताया जाता है कि राहुल ने इस पर भी फीडबैक लिया कि ऐसी कौन सी चीजें या मुद्दे हैं, जो सरकार के खिलाफ जा सकते हैं। मीटिंग के दौरान राहुल गांधी ने जहां सभी नेताओं को एकजुट होकर चुनाव की तैयारियों में जुटने को कहा, वहीं इस पर भी जोर दिया कि हमारा नैरेटिव बीजेपी से आगे रहना चाहिए। साथ ही, उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार ने जो काम किए है, चुनाव में उन कामों को पूरी प्रमुखता के साथ वहां की जनता के सामने रखना चाहिए। 


उल्लेखनीय है कि कनार्टक में लगातार ध्रुवीकरण का माहौल बन रहा है। पिछले दिनों हिंदुत्व को लेकर बीजेपी और संघ की ओर से कई बयान सामने आए। जिसकी प्रतिक्रिया कांग्रेस की ओर से हुई। खुद सीएम सिद्धारमैया भी इस मुद्दे को लेकर बीजेपी के नेताओं से उलझते नजर आए। इसके मद्देनजर कांग्रेस में इस मुद्दे पर सर्तकता से चलने की बात की जा रही है। राहुल गांधी का कहना है कि बीजेपी के पास वहां और कोई खास मुद्दा नहीं है, इसलिए वह इसमें उलझाने की कोशिश करेगी, लेकिन हमें उनकी चाल में नहीं आना है। सूत्रों के मुताबिक, राहुल ने इस मुद्दे को लेकर नेताओं से बेवजह की बयानबाजी करने से बचने के लिए भी कहा है। उल्लेखनीय है कि हाल ही में सिद्धारमैया ने बीजेपी व संघ के लोगों को हिंदुत्व चरमपंथी करार दिया था। जिसे लेकर बीजेपी ने खासा प्रतिरोध कर रही है। माना जा रहा है कि कांग्रेस हाईकमान ऐसी किसी स्थिति को टालने के पक्ष में है, जिसके चलते कर्नाटक चुनाव में बीजेपी को मौका मिल सके। ऐसे में राहुल ने कहा कि बीजेपी असल मुद्दों को भटकाने की कोशिश करेगी, लेकिन हमें उनके ट्रैप में नहीं आना है।