रायपुर। नकली नोट के सौदागरों ने दो हजार रुपए के नए नोट का भी तोड़ निकाल लिया है। दरअसल राजधानी के 8 बैंकों में सालभर के भीतर ग्राहकों द्वारा जमा कराए गए संदेहास्पद नोटों की जब नासिक में जांच कराई तब खुलासा हुआ कि दो हजार के पांच नोट नकली हैं।


कुल 1 लाख 46 हजार 4 सौ रुपए के नोट नकली पाए गए हैं। बाकी नोट पुराने हैं, जो अभी चलन से बाहर हैं। सबसे अधिक देना बैंक में जमा कराए गए 50 हजार के नोट नकली निकले हैं। जांच रिपोर्ट आने के बाद इसके लिए नोडल पुलिस थाना बनाए गए सिविल लाइन में अज्ञात के खिलाफ धारा 489 बी के तहत अपराध कायम किया गया है।


सिविल लाइन थाना प्रभारी हेमप्रकाश नायक ने बताया कि तात्यापारा चौक स्थित बैंक ऑफ इंडिया शाखा में 15 मार्च 2017 से 9 मई 2107 के बीच दो हजार और सौ रुपए के कुल साढ़े तीन हजारररपुपए के नोट नकली जमा कराए गए थे।


इसी तरह कोटक महेंद्रा बैंक सिविल लाइन में 10 जनवरी से 10 जुलाई 2017 के बीच एक हजार, पांच सौ और सौ रुपए के कुल 26 सौ के नकली नोट, घड़ी चौक स्थित एक्सीस बैंक शाखा में 4 जुलाई से 7 दिसम्बर 2017 के बीच दो हजार, पांच सौ, सौ तथा पचास रुपए के 37 हजार 450 रुपए, जवाहरनगर मौदहापारा देना बैंक शाखा में 6 जनवरी 017 को एक हजार, पांच से कुल 50 हजार रुपए, सुंदरनगर सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया शाखा में 7 जनवरी से 15 फरवरी 2017 के बीच एक हजार, पांच सौ तथा सौ रुपए के कुल 44 हजार 9 सौ रुपए, यश बैंक शाखा में 9 जून 2017 को एक हजार, पांच सौ, सौ तथा पचास रुपए के कुल 42 सौ रुपए, सिविल लाइन स्थित आईडीबीआई शाखा में 18 अगस्त 017 को सौ और पचास रुपए के 1250 रुपए के नकली नोट तथा स्टेट बैंक कचहरी चौक शाखा में 30 जुलाई 017 को दो हजार, पांच सौ रुपए के कुल 25 सौ रुपए के नकली नोट ग्राहकों द्वारा जमा कराए गए हैं।