केपटाउन। वर्नोन फिलेंडर की अगुआई में अपने तेज गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर दक्षिण अफ्रीका की क्रिकेट टीम ने सोमवार को यहां खत्म हुए पहले टेस्ट मैच में भारत को 72 रनों से हराया। न्यूलैंड्स क्रिकेट मैदान पर खेले गए तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट को चार दिन से भी कम समय में जीतकर दक्षिण अफ्रीका ने 1-0 की बढ़त हासिल कर ली। इस मैच ने तेज और उछालयुक्त गेंदों को खेलने की भारतीय बल्लेबाजों की कमजोरी को एक बार फिर उजागर कर दिया। भारत के खिलाफ मिली इस जीत के सूत्रधार रहे तेज गेंदबाज फिलेंडर का कहना है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली के बल्ले पर अंकुश लगाना उनकी रणनीति थी जिस पर अमल करने में वे कामयाब रहे।


करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए दूसरी पारी में छह विकेट लेने वाले फिलेंडर ने कहा कि विराट बेहतरीन बल्लेबाज हैं और उनके बल्ले को खामोश रखना जरूरी था। हमने यही किया। यह पूछने पर कि कोहली के आउट होने के बाद उन्होंने कुछ कहा, तो फिलेंडर ने कहा कि नहीं। मैने उनसे कुछ नहीं कहा। मैं अपने खिलाड़ियों की हौसलाअफजाई कर रहा था और हमारा ध्यान इसी पर होता है। मुझे पता था कि विराट बहुत बड़ा विकेट है और उन्हें आउट करके हम जश्न मना रहे थे।

भारत के सामने सिर्फ 208 रन का लक्ष्य था और फिलेंडर को पता था कि तेज आक्रमण की जिम्मेदारी लेकर उन्हें टीम को अच्छी स्थिति में लाना होगा। फिलेंडर ने कहा कि जब आपने सिर्फ 208 रन का लक्ष्य रखा हो तो किसी एक को जिम्मेदारी लेनी होती है। आप बाद के लिए रुक नहीं सकते, क्योंकि हो सकता है कि बाद में मौका नहीं मिले। भारत ने एक समय सात विकेट 82 रन पर गंवा दिए थे, लेकिन इसके बाद रविचंद्रन अश्विन और भुवनेश्वर कुमार ने आठवें विकेट के लिए 49 रन जोड़े। इस साझेदारी को भी फिलेंडर ने अश्विन का विकेट झटककर तोड़ा। हमें पता था कि आखिरी तीन विकेट ले सकते हैं।


ऐसे चटकाए 4 गेंदों में 3 विकेट


फिलेंडर ने भारत की दूसरी पारी में 4 गेंदों पर तीन विकेट लेकर द. अफ्रीका को जीत दिला दी। केपटाउन टेस्ट में भारत की दूसरी पारी के 43वें ओवर की पहली गेंद पर फिलेंडर ने अश्विन (37) को विकेटकीपर डि कॉक के हाथों कैच आउट करवाया। फिलेंडर की अगली गेंद पर शमी ने चौका लगा दिया। इसकी अगली गेंद यानि की 42.3 पर मोहम्मद शमी (04) दूसरी स्लिप पर खड़े डू प्लेसिस को कैच थमा बैठे। अगली ही गेंद पर जसप्रीत बुमराह (0) भी ठीक शमी की तरह ही दूसरी स्लिप पर खड़े डू प्लेसिस को कैच दे बैठे और भारत को केपटाउन में मिली 72 रन से हार। इस तरह फिलेंडर ने 4 गेंदों पर 3 विकेट चटकाए।