भोपाल। अगले छह महीने के भीतर राजधानी में पता चलेगा कि प्रदेश के चार बड़े शहर इंदौर (पीथमपुर), सिंगरौली, उज्जैन व देवास की हवा कितनी प्रदूषित है। जी, हां आम आदमी को इसकी जानकारी शाहपुरा स्थिति पर्यावरण परिसर में लगाए जा रहे इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले बोर्ड पर मिलेगी। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीसीबी) ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। भोपाल में चार बड़े शहरों के वायु प्रदूषण से आम लोगों को रूबरू कराने की वजह पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ाना है।


प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्र पीथमपुर, सिंगरौली जैसे शहरों में वायु प्रदूषण की पीसीबी द्वारा सतत मॉनीटरिंग की जा रही है। इसमें उज्जैन और देवास भी शामिल है। मॉनीटरिंग के लिए पीसीबी ने चार शहरों में एक-एक करोड़ की लागत से कंटीन्यूअस एयर मॉनीटरिंग सिस्टम लगाए हैं जो ऑटोमेटिक हवा में प्रदूषित तत्वों की जांच कर एयर क्वालिटी इंडेक्स तैयार कर लेते हैं।


इससे पता चल जाता है कि हवा में हैवी मैटल, हानिकारक गैसों की स्थिति क्या है। यदि तय मानक से कोई भी हैवी मैटल और हानिकारक गैसें हवा में अधिक मिलती है तो यह सिस्टम पकड़ लेता है। अभी इसकी जानकारी केवल पीथमपुर, सिंगरौली, देवास और उज्जैन में ही मिलती है। अब भोपाल में भी मिलेगी।


लोगों में जागरूकता आएगी


पर्यावरण के प्रति आम लोगों की सहभागिता बढ़ाने के लिए इलेक्ट्रानिक डिस्प्ले बोर्ड लगाए जा रहे हैं। बाकी के शहरों में भी ये सिस्टम लगेंगे, जिन्हें बाद में भोपाल में लगाए जा रहे इलेक्ट्रानिक डिस्प्ले बोर्ड से जोड़ा जाएगा।


- डॉ. रीता कोरी, मुख्य वैज्ञानिक अधिकारी, पीसीबी