नई दिल्ली: काफी दिन से सक्रिय क्रिकेट से दूर चल रहे ऑलराउंडर यूसुफ पठान की घरेलू क्रिकेट के साथ टीम इंडिया में वापसी की कोशिशों को जोर का झटका लगा है. और यह झटका दिया भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने. दरअसल यूसुफ पठान पिछले साल हुए डोप टेस्ट में फेल हो गए हैं. और बीसीसीआई ने उन्हें पांच महीने के लिए निलंबित कर दिया है. लेकिन इस निलंबन के बावजूद यूसुफ पठान की सबसे बड़ी चिंता खत्म हो गई है. यूसुफ पठान का नाम अब इस महीने के आखिर में आईपीएल के लिए होने वाली नीलामी में शामिल किया जाएगा. 

बता दें कि यूसुफ पठान ने पिछले घरेलू सत्र में बड़ौदा रणजी टीम के लिए केवल एक ही मैच खेला था. दरअसल यूसुफ ने ब्रोजिट नाम की दवा का सेवन किया था. इस दवा में प्रतिबंधित पदार्थ का इस्तेमाल होता है. किसी भी खिलाड़ी को यह दवा लेने के लिए पहले से ही अनुमति लेनी पड़ती है. लेकिन दवा लेने से पहले न तो यूसुफ पठान ने ही इजाजत ली और न ही बड़ौदा टीम के डॉक्टर ने. नतीजा यह रहा कि यूसुफ डोप टेस्ट में पकड़े गए. डोप टेस्ट का रिजल्ट पॉजेटिव आते ही बीसीसीआई ने बड़ौदा एसोसिएशन को जारी सत्र के बाकी मैचों लिए यूसुफ को टीम में न चुनने का फरमान जारी कर दिया. मतलब यह यूसुफ उनके लिए बहुत ही अहम शुरू हुई सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में नहीं खेल पाएंगे. बीसीसीआई ने उन्हें पांच महीने के लिए निलंबित कर दिया है. लेकिन बावजूद इसके यूसुफ के लिए राहत की खबर यह है कि उनका आईपीएल में भाग लेने का सपना चूर नहीं ही होगा. यूसुफ के डोप टेस्ट में फैल होने के बाद ऐसे सवाल उठ रहे थे कि क्या यूसुफ को साल 2012 में आईपीएल में डेयर डेविल्स के खिलाड़ी प्रदीप सांगवान की तरह 18 महीने का प्रतिबंध तो नहीं झेलना पड़ेगा. लेकिन बोर्ड ने यूसुफ पठान के जवाब को स्वीकार कर लिया है. और इसके बाद अब यूसुफ पठान आईपीएल 2018 में खेल सकेंगे.दरअसल यूसुफ पठान का यह निलंबन 15 अगस्त 2017 से लागू होगा. बोर्ड ने कहा कि नियमों के अनुसार यूसुफ पर अस्थायी रूप से लगाए गए प्रतिबंध की अवधि का लाभ लेने का पूरा हक है, जो उन पर 28 अक्टूबर 2017 से लागू था. इसलिए अब बोर्ड के ताजा निलंबन की अवधि 15 अगस्त 2017 से लागू होकर 14 जनवरी की आधी रात को खत्म हो जाएगी. इसी के साथ ही यूसुफ पठान आईपीएल की नीलामी में हिस्सा ले सकेंगे.