दिल्ली में आतंकी साजिश का एमपी कनेक्शन सामने आया है. मध्य प्रदेश एटीएस दो वजहों से जांच कर रही है. पहली वजह भोपाल शताब्दी ट्रेन से संदिग्ध आतंकी बिलाल वानी को गिरफ्तार है, जबकि दूसरी वजह भोपाल में आयोजित इंटरनेशन कांफ्रेंस में शामिल हुए मन्नान वानी के आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल होने के बाद सामने आई है. एटीएस दोनों बिंदुओं पर गहराई से तफ्तीश कर रही है.

दरअसल, रविवार रात मथुरा के पास भोपाल शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन से एक संदिग्ध आतंकी को गिरफ्तार किया गया है. उसकी पहचान बिलाल वानी के तौर पर हुई है. बिलाल वानी की निशानदेही पर दो लोगों की तलाश में दिल्ली में छापेमार कार्रवाई की जा रही है.

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल, यूपी ATS और IB दोनों संदिग्धों की तलाश में जुटी हुई हैं. दो को हिरासत में भी लिया गया, लेकिन पूछताछ के बाद उनका कोई आतंकी कनेक्शन सामने नहीं आया.

बिलाल वानी से पूछताछ की जा रही है और इसी पूछताछ में सुरक्षा एजेंसियों को 26 जनवरी के कार्यक्रम और दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर पर आतंकी हमले की प्लानिंग का पता चला.

वहीं दूसरी तरफ संदिग्ध मन्नान वानी, जो अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का रिसर्च स्कॉलर बताया जा रहा है, वो भी कुछ दिनों पहले आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हुआ है. साथ ही सूत्रों ने बताया कि मन्नान वाली 2016 में भोपाल भी आया था. मन्नान वानी लापता है और उसकी तलाश की जा रही है.

सूत्रों ने बताया कि 2016 में मन्नान वानी भोपाल आया था. भोपाल में वो आईसेक्ट यूनिवर्सिटी में आयोजित इंटरनेशनल कांफ्रेंस में शामिल हुआ था. सोशल मीडिया पर वायलर हुए फोटो में मन्नान वानी कांफ्रेंस में अपने रिसच्र पेपर का प्रजेन्टेशन देते हुए नजर आ रहा है.

जानकारी मिली है कि वॉटर एनवायमेंट एनर्जी एंड सोसाइटी विषय पर आयोजित इस कांफ्रेंस में मन्नान को बेस्ट रिसर्च पेपर प्रजेंटेशन का अवार्ड भी मिला. मन्नान भोपाल में तीन दिन रूका था.

सूत्रों के अनुसार कांफ्रेंस के साथ मन्नान भोपाल की दूसरी गतिविधियों में भी शामिल हुआ था. एटीएस की टीम मन्नान वानी के भोपाल आने और उसे कांफ्रेंस के साथ दूसरी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर जांच कर रही है.

दिल्ली में आतंकी साजिश के खुलासे के साथ हिजबुल मुजाहिदिन में संदिग्ध के शामिल होने की जानकारी मिलने के कारण पुलिस मुख्यालय ने एमपी में अलर्ट जारी कर दिया है. पुलिस मुख्यालय ने सभी एसपी को सर्तक रहने के निर्देश दिए हैं.

संदिग्ध आतंकी के भोपाल आने के साथ भोपाल शताब्दी ट्रेन में पकड़े जाने की वजह से भी एमपी एटीएस संदिग्ध बिलाल वानी और मन्नान वानी की भूमिका की बारिकी से जांच कर रही है.

इंटेलिजेंस आईजी मकरंद देउस्कर ने मामले की जानकारी लेकर जांच करने की बात कही है. वहीं आईसेक्ट यूनिवर्सिटी के पीआरओ समीर चौधरी ने बताया कि उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं है. वो प्रबंधन से बात करने के बाद कुछ कह पाएंगे. फिलहाल, एटीएस अपने स्तर पर पूरे मामले की जांच कर रही है.