सिवनी । ये दो तस्वीरें हैं। दूसरी तस्वीर में बयां होती हकीकत जागरुकता, मजबूत इरादे और सकारात्मक सोच का परिणाम है। दक्षिण सामान्य वनमंडल के बरघाट वन परिक्षेत्र में बंजर और वीरान पड़ी कांचना पहाड़ी ग्रामीणों के मजबूत इरादे और देखरेख की बदौलत आज हरे-भरे जंगल में तब्दील हो चुकी है। लेकिन एक समय ऐसा भी था जब कांचना पहाड़ी (कंपार्टमेंट क्रमांक आर-120) अवैध कटाई और देखरेख के अभाव में बंजर जमीन में तब्दील हो चुकी थी।


लेकिन करीब दो दशक पहले बरघाट में तैनात रहे रेंजर केएल कांवरे ने 1999 में इस वीरान पहाड़ी के करीब 50 हेक्टेयर रकबे में 41 हजार 700 पौधों का प्लांटेशन कराया। अपनी इस मुहिम से उन्होंने कांचना और मानेगांव के ग्रामीणों को भी जोड़ लिया। इसका परिणाम ये रहा कि यहां कराया गया प्लांटेशन 100 प्रतिशत सफल रहा।