उज्जैन  मध्य प्रदेश के उज्जैन में शैव महोत्सव के समापन मौके पर पहुंची केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ने खुद की तुलना जंगल बुक के पात्र मोगली से करते हुए कहा कि मेरा जीवन भी मोगली की तरह है, अतः मैं भी उसी तरह करतब करती हूं और लोग विशिष्ठता समझते हैं.


शैव महोत्सव के समापन समारोह पर केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा कि मुझे मंच से यह कहकर बुलाया जाता है कि मैं कुशल वक्ता हूं, तो मैं आपको बता दूं कि कभी-कभी तो मुझे लगता है कि मैं क्या हूं मुझे लगता है कि मैं TV सीरियल के उस मोगली के पात्र के समान हूं जो जंगलों में उछलता कूदता और करतब दिखाता है.


उन्होंने कहा कि मेरा ऐसा मानना है कि अगर मोगली राजनीति में आ जाता तो वह भी यही करता जो मैं कर रही हूं. उमा भारती ने कहा कि उज्जैन में सिंहस्थ की भीड़ देखकर मैं घबरा गई थी लेकिन मैंने यह बात मानी है कि कुंभ यहा सिंहस्थ के समय में आतंकवादी धमकियां देना शुरु कर देते हैं और टीवी चैनलों पर डिबेट शुरू हो जाती हैं कि इन आयोजनों में भीड़ रहेगी या नहीं, लोग पहुंचेंगे या नहीं.


उन्होंने कहा कि लेकिन होता उसका उल्टा है लोगों की भीड़ दोगुना पहुंचती है श्रद्धालु सोचते हैं मर जाएंगे तो मोक्ष मिल जाएगा और जी गए तो नया जीवन मिल जाएगा और यह आस्था भारत में ही देखने को मिलती है.



समापन अवसर पर RSS के भैयाजी जोशी ने कहा कि अगले वर्ष शेव महोत्सव सोमनाथ में होगा और वहां हम उज्जैन से ही चांदी का ध्वज लेकर जाएंगे.