मध्य प्रदेश के इंदौर में हुए भीषण सड़क हादसे में शिकार हुए बच्चों के परिजनों से मिलने पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने ही परिजनों का गुस्सा फूटा.


घटना में जान गंवा चुके बच्चों श्रुति लुधियानी, हरमीत कौर, कृति अग्रवाल और स्वास्तिक पंड्या के परिजनों से मिलने उनके घर पहुंचे. इस दौरान उन्हें उनके गुस्से का सामना करना पड़ा. हरमीत की मां ने रोते हुए कहा कि दिल्ली पब्लिक स्कूल केवल ज्यादा फीस लेता है. बच्चों की जिम्मेदारी नहीं लेता है. ये स्कूल बंद होना चाहिए. टीचर्स जिम्मेदार नहीं हैं.


इससे पहले बस हादसे में घायल हुए बच्चों से मिलने सीएम शिवराज सिंह चौहान बॉम्बे हॉस्टिपल पहुंचे. इस दौरान उन्होंने डॉक्टरों से बच्चों के स्वास्थ्य का हाल जाना और उनके परिजनों से भी मुलाकात की. शिवराज ने कहा कि इस घटना के दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.


बताया जा रहा है कि हादसे के तीन दिन बाद पहुंचने पर परिजन आक्रोशित नजर आए. उन्होंने सीएम से कहा कि अभी तक स्कूल पर कोई कठोर कार्रवाई नहीं हुई है.



गौरतलब है कि शुक्रवार को इंदौर में कनाड़िया रोड पर बाइपास पर दिल्ली पब्लिक स्कूल की बस और एक ट्रक में भीषण टक्कर हो गई थी, जिसमें चार बच्चों और बस ड्राइवर की तत्काल मौत हो गई थी. हादसा इतना भयावह था कि बस के ड्राइवर और तीन छात्रों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया.