आप कड़ी मेहनत के बाद भी सफलता आपसे दूर-दूर रहती है। आप सोचते हैं कि आखिर ऐसा क्यों होता है लेकिन समझ नहीं पाते। हम आपको बता दें कि असफलता का स्वाद चखे बिना सफलता के सुख को कभी नहीं समझा जा सकता। लेकिन कई महाज्ञानी लोगों की मानें तो अगर आप इन बातों का ध्यान रखेंगे, तो आपको कोई भी काम करने में सफलता मिलेगी।



मित्रों वो जो न करे मित्र होने का दिखावा 

हमें मालूम होना चाहिए कि कौन हमारा सच्चा मित्र है और कौन मित्र होने का दिखावा कर रहा है। शत्रु तो आपको दूर से नजर आ सकते हैं लेकिन ऐसे मित्रों से आपको खासतौर से बचने की जरूरत होती है जो दोस्त की शक्ल में आपको धोखा दे रहे होते हैं। अगर आप दोस्तों की पहचान में माहिर हो जाएंगें तो सफल होने से आपको कोई नहीं रोक सकता। 



जीवन साथी की सलाह

नया काम शुरू करने से पहले अपनी पत्‍नी से सलाह ले सकते हैं। आपकी पत्नी आपकी जीवन साथी है, इसलिए कोई भी निर्णय लेने से पहले उसे परामर्श करें। अगर आप शादीशुदा नहीं हैंं, तो अपने माता-पिता या फिर किसी बुर्जुग से सलाह लें। 



दुश्मनों से करें ऐसा व्यवहार कि वो बन जाएं आपके दोस्त 

कहने का मतलब है कि अगर आप लोगोंं से अच्‍छा व्यवहार करेंगे तो, आप दुश्‍मनों को भी अपना दोस्‍त बना सकते हैं, इससे आपको कामयाब होने से कोई नहीं रोक सकता। दुश्मन की कमजोर नस पर चोट करें, लेकिन जब दुश्मन की कमजोरी न मालूम हो तो उससे दोस्ती रखें। वैसे चाणक्य का यह भी मानना है कि आपका खुश रहना ही आपके दुश्मनों के लिए सबसे बड़ी सजा हैं। 

 


सकारात्मक सोच,सफल काम 

कोई भी नया काम शुरू करने से पहले, हमेशा मन में इन बातों का ख्‍याल रखें। नए काम को हमेशा साकारात्मक तरीके से करें, साथ ही पैसे को लेकर सर्तक रहेंं और अच्छी सोच वाले लोगों के साथ रहें। 


 


सफलता के मीठे बोल 

कहा जाता है अगर आप मीठा बोलेंगे तो आपके कई सारे काम पूरे हो सकते हैं। चाणक्य भी इसी बात का समर्थन करते हैं। अपनी सफलता के लिए हमेशा अच्छा और मीठा बोलें ताकि लोग हमेशा आपका साथ दे।