ग्रुप में घूमने के फायदे तो नुकसान भी है. फिजूलखर्ची से चाहकर भी आप नहीं बच सकते. अकेले घूमेंगे तो आप अपने बजट के हिसाब से ही खर्च करेंगे.

अगर कोई आपसे कहे कि आप अपने आपको कितना जानते हैं? तो आपका क्या जवाब होगा. अगर आप अभी तक खुद को नहीं जान पाएं हैं, भीड़ से थोड़ा दूर हटिए और सोलो ट्रैवलिंग पर निकल जाइए. याद रखिए, खुद आपसे अच्छा आपका कोई दोस्त नहीं है. सोलो ट्रैवलिंग करके न सिर्फ आप खुद को जान पाएंगे बल्कि आपको दुनिया को देखने का आपका नजरिया भी बदल जाएगा. आइए, जानते हैं सोलो ट्रैवलिंग के फायदे. 


चुनौतियों से लड़ने का हुनर


चुनौतियों से निपटने का हुनर सबके साथ नहीं आता. जब आपको कोई न समझाने वाला हो तब आपका दिमाग बेहतर काम करता है. खुद के साथ घूमेंगे तो चुनौतियां भी आपके सामने आएंगी और उनसे निपटने का हुनर भी आप सीख जाएंगे.


अपनी आजादी को खुलकर जिएं 


जब आप अकेले घूमने जाते हैं तो आप पर कोई प्रेशर नहीं होता. कोई रोकने-टोकने वाला नहीं होता. आप कहीं भी घूमने जा सकते हैं. कितने भी लोगों से मिल सकते हैं. सोलो ट्रिप का यही फायदा होता है कि आप चीजों को ज्यादा बेहतर समझ पाते हैं.


निखरेगा व्यक्तित्व 


कोई हमेशा चुप नहीं रह सकता. किसी से तो बात करने की जरूरत आपको महसूस होगी ही, तो जाहिर है कि आप अजनबियों से बातें करेंगे. नए लोगों से जुड़ेंगे तो आपकी कम्युनिकेशन स्किल भी निखरेगी.


पैसे बचेंगे 


ग्रुप में घूमने के फायदे तो नुकसान भी है. फिजूलखर्ची से चाहकर भी आप नहीं बच सकते. अकेले घूमेंगे तो आप अपने बजट के हिसाब से ही खर्च करेंगे.


साथ रहेंगी यादें


खुद के साथ इतना सारा वक्त बिताकर आपको अच्छा लगेगा. आप अपनी कमियों को भी ठीक तरह से जान पाएंगे और उनसे निपटने का रास्ता भी आप निकाल लेंगे.