पाकिस्तान जब तक अपनी जमीन से आतंकवाद और गोलीबारी बंद नहीं कर देता, तब तक भारत-पाक के बीच किसी प्रकार के क्रिकेट मैच की संभावना नहीं है. उन्होंने यह बात विदेश मंत्रालय संबंधित संसद की सलाहकार समिति से ‘पड़ोसियों के साथ संबंध’ नाम के एंजेंडा बैठक के दौरान कही.


इस एजेंडा बैठक में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अलावा विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर एवं विदेश सचिव एस जयशंकर भी मौजूद थे. इस दौरान उन्होंने भारत में पाक उच्चायुक्त से मुलाकात की बात भी कही.


सुषमा ने बताया कि उन्होंने पाक उच्चायुक्त के समक्ष प्रस्ताव रखा था कि दोनों देशों को 70 साल से अधिक आयु के बंदियों अथवा महिलाओं या अस्थिर दिमाग वाले लोगों को मानवतावा के आधार पर रिहा कर देना चाहिए.


बैठक में उपस्थित एक सदस्य ने यह जानकारी दी. सदस्य ने बताया कि भारत पाक क्रिकेट श्रृंखला किसी निष्पक्ष स्थल पर कराये जाने से संबंधित एक प्रश्न के जवाब में सुषमा ने साफ तौर पर यह संकेत दिया कि जब तक पाकिस्तान सीमा पार से आतंकवाद एवं गोलीबारी बंद नहीं कर देता, तब तक दोनों देशों के बीच किसी प्रकार की क्रिकेट श्रृंखला के होने की संभावना नहीं है.


उन्होंने सुषमा के हवाले से बताया कि आतंकवाद एवं क्रिकेट साथ साथ नहीं चल सकते हैं. बैठक में सदस्यों ने मंत्रालय से हाल में संपन्न मालदीव-चीन मुक्त व्यापार संधि एवं दोनों देशों के बीच बढ़ती नजदीकी एवं इसके कारण भारत पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में सवाल पूछे.


मंत्रालय ने अपने जवाब में कहा कि भारत एवं मालदीव के बीच संबंध नजदीकी एवं सौहार्द्रपूर्ण हैं. उसने दोनों देशों के बीच बढ़ते रक्षा सहयोग के बारे में भी चर्चा की.