सांसारिक जीवन में श्री हनुमान जी भक्ति का दूसरा नाम है। जीवन में आने वाली मुश्किलों पर विजय मंगलवार के दिन पाई जा सकती है। ज्योतिषशास्त्र में शकुन और अपशकुन से संबंधित मान्यताओं को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। आने वाले कल में जो कुछ अच्छा होगा वह शकुन कहलाता है और जो बुरा होगा वे अपशकुन। दिन-वार को ध्यान में रखकर कोई भी कार्य करना चाहिए, जिससे भविष्य में शुभता बनी रहे। मंगल के दुष्प्रभाव अथवा शनि दोष के कारण अगर आपके पारिवारिक जीवन में परेशानीयां आ रही हों, छोटी छोटी दुर्घटनाओं के कारण कष्ट प्राप्त हो रहा हो तो उसके लिए कुछ बातों का रखें ध्यान अन्यथा शकुन भी बन जाते हैं अपशकुन।



नाखुन न काटें।


हेयर कट, दाढ़ी बनाना, थ्रैडिंग या वैक्सिंग करवाना भी टालें।


धारदार सामान न खरीदें जैसे कैंची, नेल कटर, चाकू आदि।


अपनी मां से ऊंचे स्वर में बात न करें।   


मांस-मदिरा को न तो घर लेकर आएं और न ही सेवन करें।



यदि मंगल (पुरुष) की तरफ से गड़बड़ी हो तो उसे ठीक करने के लिए कमरे में लाल पेंट (रंग) कराएं। टी.वी. आदि इलैक्ट्रॉनिक वस्तुए शयन कक्ष में रखें। गद्दे, तकिए हल्के से कठोर हों तो बेहतर (शुभ) होगा। दीवारों पर तांबे की धातु के बने सजावट के सामान लगाएं। नक्काशीदार शोपीस धातु के रखें, गुलाबी या लाल रंग के नाइट लैंप लगाएं तथा गर्म दूध का सेवन करें। सर्दियों में हीटर का इस्तेमाल करें और सर्दियों के बाद इस्तेमाल न करते हुए भी हीटर शयन कक्ष में रखें। इससे कितने भी उग्र स्वभाव का पति हो, वह भी वश में हो जाता है। नवदंपति अथवा पच्चीस साल पहले के शादी-शुदा दम्पति, वे अपनी यौन संबंधी विसंगतियां दूर कर सकते हैं।