फीमेल ऑर्गज्म को समझना आसान नहीं है। किसी लड़की या महिला को पहले खुद यह जानना होगा कि कौन सी चीज उन्हें उत्तेजित करती है क्योंकि बहुत सी ऐसी लड़कियां या महिलाएं हैं जो ऑर्गज्म महसूस ही नहीं कर पातीं। अगर आप भी उन महिलाओं में से हैं जिन्हें ऑर्गज्म के बारे में पता नहीं या फिर बेहतर ऑर्गज्म का अनुभव करना चाहती हैं तो यह खबर आपके लिए ही है। हमने अलग-अलग क्षेत्र की कुछ महिलाओं से बात की और उनसे जानने की कोशिश की आखिर वह कौन सी चीज है जो उन्हें क्लाइमैक्स तक पहुंचने में मदद करती है। आप भी पढ़ें...

बहुत से लोग बिना किसी वजह के लुब्रिकेंट को कम आंकते हैं और इसके महत्व के बारे में भी कुछ नहीं जानते जबकि हकीकत यह है कि लुब्रिकेंट आपके सेक्शुअल प्लेजर को बढ़ाता है और ऑर्गज्म हासिल करने में मदद करता है। मार्केट में सिलिकन और वॉटर बेस्ड, कई तरह के लुब्रिकेंट मिलते हैं। आपको इन सबके के साथ एक्सपेरिमेंट करना चाहिए ताकि पता चल सके कि कौन सा लुब्रिकेंट आपके लिए बेस्ट है।

अगर आपको ऑर्गज्म महसूस हो जाता है तो तुरंत रुकने की जरूरत नहीं है। एक बार आपने गति पकड़ ली तो उसे जारी रखें कि क्योंकि महिलाएं एक से ज्यादा बार ऑर्गज्म हासिल कर सकती हैं। सच्चाई यह है कि बहुत से केस में पहला वाला ऑर्गज्म सबसे कम आनंददायक होता है। लिहाजा पहले ऑर्गज्म पर ही रुक जाना आपकी सबसे बड़ी गलती है। कुछ मिनट बाद दोबारा हासिल करने की कोशिश करें।

ऐसी कोई रूलबुक नहीं है कि इंसान सिर्फ बेडरूम में ही सेक्स कर सकता है। मुझे जगह के साथ एक्सपेरिमेंट करना अच्छा लगता है कि और अलग-अलग जगहों पर सेक्स करने से मेरा मूड और बेहतर हो जाता है। पार्टनर के पास जाने से पहले अक्सर मैं बाथटब में कामोत्तेजक संगीत सुनते हुए खुद को संतुष्ट करती हूं। इसके अलावा बेडरूम में अरोमा कैंडल्स जलाना भी मुझे अच्छा लगता है। साथ ही कई बार कामोत्तेजक नॉवल पढ़ने पर भी मुझे उत्तेजना महसूस होने लगती है।

मेरे केस में पेनिट्रेटिव सेक्स ज्यादा काम नहीं आता। मुझे क्लिटोरल स्टिम्युलेशन के बाद ही ऑर्गज्म महसूस होता है। फोरप्ले और प्यार से सहलाने के बाद ही मैं क्लाइमैक्स तक पहुंच पाती हूं। इसमें करीब 5 से 7 मिनट का वक्त लगता है लेकिन इस इंतजार का भी अपना ही मजा है।

क्लिटोरल स्टिम्युलेशन के साथ ही मैं अपने दूसरे हाथ से शरीर के दूसरे हिस्सों जैसे- ब्रेस्ट, गला और बाल को भी छूती हूं। ऐसा करने से मेरे दोनों हाथ बिजी रहते हैं और मेरे पूरे शरीर में सिहरन महसूस होती है जिससे पूरा शरीर उत्तेजित हो जाता है। इसके अलावा मैंने हाल ही में पढ़ा है कि महिलाएं निप्पल्स को उत्तेजित कर भी ऑर्गज्म महसूस कर सकती हैं और मैं इसे ट्राई करने के बारे में सोच रही हूं।