शास्त्रों के अनुसार बुध दोष शांति एवं भगवान गणेश को खुश करने के लिए बहुत से उपाय बताए गए हैंं। जो मन में छुपी धन पाने की अतृप्त इच्छाओं को पूर्ण करते हैं। हरे रंग की वस्तुओं का दान करें। इसके अतिरिक्त घी, कांसा, कर्पूर व मिश्री का दान करें। पूजा-पाठ से लेकर तांत्र‌िक क्र‌ियाओं तक में सफेद रंग की छोटी सी कर्पूर की टिकिया प्रयोग की जाने वाली वस्तु है। आत्माओं का आवाहन करने के लिए तांत्र‌िक क्र‌ियाओं में कर्पूर को हथियार की तरह इस्तेमाल किया जाता है। बुद्धि व धन की प्राप्ति के लिए बुधवार का दिन बहुत श्रेष्ठ है। वैज्ञानिक शोध के अनुसार कर्पूर की सुगंध से जीवाणु, विषाणु रोग फैलाने वाले जीव खत्म हो जाते हैं। इससे वातावरण शुद्ध होता है अौर बीमारियां भी नहीं होती। इसके साथ ही घर में इसे जलाने से अनिद्रा की समस्या दूर होती है। वैसे तो इसका इस्तेमाल किसी भी दिन किया जा सकता है लेकिन बुधवार को इसे प्रयोग करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है।



संध्या के समय घर के हर बैडरूम में कर्पूर जलाने से रोग-शोक नष्ट होते हैं।



थोड़े से गंगा जल में कर्पूर म‌िलाकर मेन गेट पर छ‌िड़कने से किसी भी तरह की बुरी बला और नकारात्मक प्रभाव घर में प्रवेश नहीं करता।



देवी-देवताअों के समक्ष कर्पूर जलाने से अक्षय पुण्य मिलता है। वहीं भृगुसंहिता के अनुसार कर्पूर को जलाने से देवदोष अौर पितृदोष भी कम होते हैं। 



सौभाग्य में वृद्धि के लिए 12 साबूदाने कर्पूर से जला दें।



घर में धन तो आता है लेकिन अनचाहे खर्चे सिर उठाए रहते हैं तो सूर्यास्त के समय कर्पूर का दीप जलाएं, उसे सारे घर में घुमाएं। अंत में तुलसी पर आरती करके घर के मंदिर में स्थापित कर दें। देवी लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होगा। 



शनि कृपा के लिए शन‌ि यंत्र का न‌‌‌िर्माण कर्पूर की काल‌िख से करके उसे धारण करें। 



लक्ष्मी को अपने द्वार तक लाने के लिए तंत्र मंत्र यंत्र से संबंधित खास वस्तु को दें घर में स्थान। श्री यंत्र आध शार्क का प्रतीक है। इसे यंत्रों में सर्वश्रेष्ठ होने के कारण ‘यंत्र राज’ भी कहा जाता है। इस यंत्र की अधिष्ठात्री देवी मां त्रिपुर सुंदरी हैं। रविपुष्य, गुरुपुष्य नक्षत्र या अन्य शुभ मुहूर्त में रजत, ताम्र, स्वर्ण या भोजपत्र पर इस यंत्र को कर्पूर का दीपक दिखाकर घर में स्थापित करें। इस यंत्र की पूजा-अर्चना से दुख, दरिद्रता दूर होकर घर में चिरस्थाई लक्ष्मी का वास होता है। व्यापार, नौकरी में मनोनुकूल फल प्राप्ति होती है। सुख, समृद्धि की प्राप्ति के साथ सभी कामनाएं पूर्ण होती हैं। 



प्रतिदिन सुबह शाम कर्पूर को घी में भिगोकर जलाएं अौर सारे घर में उसकी सुगंध फैलाएं। ऐसा करने से घर में नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है। इसके साथ ही घर में शांति बनी रहती है अौर बुरे सपने भी नहीं आते हैं। 



वास्तुशास्त्र के अनुसार घर के जिस कोने में वास्तुदोष होता है, वहां कर्पूर जलाना चाहिए। प्रतिदिन ऐसा करने से वास्तुदोष का प्रभाव कम हो जाएगा।