मध्य प्रदेश में ग्वालियर जिले के जीवाजी विवि में बन रहा मल्टीआर्ट काम्प्लेक्स का शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों हो पाएगा, इसके आसार कम ही नजर आ रहे हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय ने कुलपति से संपर्क कर कार्यक्रम का ब्यौरा मांगा है, लेकिन 22 करोड़ की लागत से बन रहे मल्टी आर्ट काम्प्लेक्स का काम अब भी अधूरा है.


दरअसल, विश्वविद्यालय का ड्रीम प्रोजेक्ट मल्टी आर्ट काम्प्लेक्स इसका निर्माण मार्च में ही पूरा हो जाना चाहिए था, लेकिन पेमेंट को लेकर ठेकेदार और विश्वविधालय प्रबंधन के बीच लगातार तकरार होती रही है, जिससे ना सिर्फ काम पिछड़ गया बल्कि उसकी लागत भी बढ़ गई.


खास बात ये है कि ग्वालियर में होने वाली डीजी कान्फ्रेंस के लिये प्रधानमंत्री के आने का कार्यक्रम प्रस्तावित है. इसी दौरान विश्वविद्यालय प्रदेश के सबसे बड़े आडिटोरियम का शुभारंभ भी प्रधानमंत्री के हाथो हो, इसके लिए विश्वविद्यालय ने पीएमओ से संपर्क किया था.


पूर्व में ये काम्प्लेक्स 14 करोड़ की लागत से बनाया जाना प्रस्तावित था बाद में इसकी लागत 11 करोड़ बढ़ गई. इस बीच भुगतान केा लेकर पीआईयू और ठेकेदार विश्वविद्यालय प्रबंधन के चक्कर लगाते रहे पीआईयू के अधिकारी मानते हैं कि भुगतान में देरी हुई है, लेकिन वे कोशिश कर रहे है कि समय पर काम पूरा हो जाए.



गौरतलब है कि प्रधानमंत्री जनवरी के महीने में कभी भी ग्वालियर आ सकते हैं. विश्वविधालय प्रबंधन ने 20 जनवरी तक काम पूरा कर लेने का दावा किया है लेकिन निर्माण कार्यो के चलते ऐसा लगता नही लगता कि काम एक माह के भीतर पूरा हो जाएगा, क्योकि बिजली एसी फिटिंग के अलावा छोटे मोटे फिनीशिंग के काम काफी बाकी हैं.