हर कोई शादी के बाद की जिंदगी में परिकथा की कल्पना करता है, लेकिन सच कुछ और ही है। सच यह है कि असल जिंदगी कोई परिकथा नहीं होती है। न ही कोई फिल्मी कहानी जहां हैप्पी एंडिंग हो। शादी के बाद भी रिश्तों में दिक्कतें आती हैं। अगर रिश्ते में ये दिक्कतें आती हैं, तो आपको किसी काउंसलर से मिलने की जरूरत है...

संवाद किसी भी रिश्ते के लिए सबसे जरूरी है। अगर आपको लगता है कि आपके बीच में अच्छे से बात नहीं हो रही है या एक दूसरे को समझ नहीं पा रहे हैं, तो आपको किसी तीसरे इंसान के हस्तक्षेप की जरूरत है।

अपनी-अपनी जिंदगी को खुलकर जीने और एक-दूसरे को स्पेस देने में कोई बुराई नहीं है लेकिन अगर इसका असर आपकी नजदीकियों पर पड़ता है तो यह मुसीबत का संकेत है।

आपकी जिंदगी में कई उतार-चढ़ाव आएंगे। ऐसे ही उतार-चढ़ाव आपकी सेक्स लाइफ में भी आएंगे। अगर ऐसा है तो बेहतर है कि आप काउंसलिंग ले लें।

अगर आप शादीशुदा हैं और किसी और से प्यार है, तो ऐसे में आप खुद में काफी उलझ जाते हैं। आपको काउंसेलिंग की जरूरत है।

अगर आपका रिश्ता आपको किसी भी तरह से चोट पहुंचा रहा है, तो आप फौरन काउंसलिंग के लिए जाएं। चाहे यह चोट शारीरिक हो, मानसिक हो या भावनात्मक हो, आपको इससे बचने की जरूरत है।