इन दिनों भारत के दिग्गज बल्लेबाज 'युवराज सिंह' मैच न खेलते हुए अपनी फिटनेस की ओर ध्यान दे रहे है. युवी बंगलौर स्थित राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (NCA) में मेहनत कर रहे है. इसके लिए उन्होंने रणजी ट्रॉफी मैच भी ठुकरा दिया है. युवी ने रणजी ट्रॉफी के 5 मैचों में से केवल एक ही मैच खेला है. इसको लेकर बीसीसीआई के अधिकारी ने सवाल उठाये है. लेकिन युवी के इस फैसले से क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के कुछ अधिकारी खुश नहीं है. इस वक़्त युवी भारत की शॉर्टर फॉर्मेट टीम से बाहर चल रहे है.

 

बता दे युवी टेस्ट मैच में दिसंबर, 2012 के बाद से अब तक नहीं खेले है. युवराज रणजी ट्रॉफी छोड़कर कर एनसीए में यो यो टेस्ट के लिए ट्रेनिंग कर रहे है. बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि, "अगर युवराज 16.1 अंक लेकर यो यो टेस्ट पास करने में कामयाब हो जाते हैं और बिना किसी मौजूदा प्रदर्शन के कारण उनका चयन क्या श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज में तय माना जाएगा ? रणजी ट्रॉफी से दूर रह कर वह यो यो टेस्ट को ज्यादा महत्व दे रहे हैं, जबकि रणजी में खेलना ज्यादा जरुरी होता है."

 

इस साल युवराज यो यो टेस्ट में फ़ैल हो गए थे जिस वजह से उन्हें भारतीय टीम के लिए सिलेक्ट नहीं किया गया था. इसलिए अब श्रीलंका के खिलाफ होने वाली सीरीज के लिए पहले उन्हें यो यो टेस्ट में सफल होना पड़ेगा इसके बाद ही वो टीम में वापसी कर सकते है. अब तो युवी के फैंस को इसी बात का इंतजार है कि वो कब यो यो टेस्ट पास करके टीम में वापसी करते है.