नई दिल्ली: भारतीय महिला हॉकी टीम ने भले ही अगले साल होने वाले विश्व कप के लिये क्वालीफाई कर लिया हो लेकिन कप्तान रानी रामपाल ने कहा कि वे एशिया कप जीतकर अपने दम पर टूर्नामेंट में जगह बनाएंगे और इसके लिए फोकस टूर्नामेंट के नाकआउट चरण पर है।  

 

जापान के काकामिगहरा में चल रहे एशिया कप में भारत ने ग्रुप चरण में तीनों मैच जीतकर शीर्ष टीम के रूप में क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई जहां उसका सामना कल कजाखस्तान से होगा। कजाखस्तान अपने तीनों लीग मैच गंवा चुका है। वैसे दक्षिण अफ्रीका के अफ्रीकी कप आफ नेशंस फाइनल में घाना को 4.0 से हराने के बाद भारत ने विश्व कप के लिए पहले ही क्वालीफाई कर लिया लेकिन कप्तान रानी का कहना है कि टीम इस तरीके से हाकी के महासमर में जगह नहीं बनाना चाहती।   

 

रानी ने काकामिगहरा से भाषा से बातचीत में कहा कि क्वालीफाई करना अच्छी बात है लेकिन हम चाहते हैं कि एशिया कप जीतकर अपने दम पर इसमें जगह बनाए। किसी और की मेहरबानी से नहीं जाएं। हम इसके लिए पूरी मेहनत कर रहे हैं और हमारे जज्बे में कोई कमी नहीं आएगी। उसने ग्रुप चरण के प्रदर्शन को भुलाकर टीम को अगले महत्वपूर्ण मैचों पर फोकस करने के लिये कहा । ग्रुप चरण में भारत ने सिंगापुर को 10 . 0 से , चीन को 4.1 से और मलेशिया को 2.0 से हराया ।   

रानी ने कहा कि हमारा प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा लेकिन अब वह बीती बात हो गई। उसे भुलाकर अगले मैचों पर फोकस करना है। हमारे लिए कोई प्रतिद्वंद्वी आसान नहीं है और हर टीम जीतने के लिए ही खेलती है। कल के मैच के जरिए हम अगले मैच की रणनीति बनाएंगे।  पिछले साल लखनऊ में जूनियर हाकी विश्व कप में भारत को खिताबी जीत दिलाने वाले कोच हरेंद्र सिंह का महिला हाकी टीम के साथ यह पहला टूर्नामेंट है । रानी ने कहा कि उनके आने से टीम पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है और उन्होंने टीम को चैम्पियनों वाले तेवर दिए हैं ।  

 

उन्होंने कहा कि हरेंद्र सर विश्व चैम्पियन टीम के कोच रह चुके हैं। उनके आने से काफी फर्क पड़ा है। वे बेसिक्स पर फोकस करते हैं और उम्मीद है कि आगे भी टीम इसी आत्मविश्वास के साथ अच्छा खेलती रहेगी । हमारे पुराने कोच भी हमें अच्छे मुकाम पर छोड़कर गए थे लिहाजा भारतीय महिला हाकी का भविष्य उज्जवल दिख रहा है।  एशिया कप टीम में यूरोप दौरे पर गई टीम की तुलना में 5 बदलाव किए गए थे । रानी ने इस टीम को युवा और अनुभवी खिलाडिय़ों का अच्छा मिश्रण बताया। उसने कहा कि हमने रोटेशन प्रणाली के तहत युवाओं को मौका दिया है। यह टीम युवा और अनुभवी खिलाडिय़ों का अच्छा मिश्रण है और सीनियर खिलाड़ी अपनी जिम्मेदारी बखूबी समझते हैं। हमें आगे भी इस लय को कायम रखने की उम्मीद है।