कौन व्यक्ति सच बोल रहा है और कौन झूठ, इस बात का पता लगाना लगभग नामुमकिन है। किसके मन में क्या है और वह कौन सी बात हमसे छिपा रहा है, ये सभी जानना चाहते हैं, लेकिन जान नहीं पाते। गरूड़ पुराण के मुताबिक कौन व्यक्ति सच बोल रहा है और कौन झूठ तथा किसके मन में क्या चल रहा है?

यह जानने के लिए शरीर से जुड़ी कुछ खास बातों पर गौर करना जरूरी है। गरुण पुराण में मन की बातें जानने से संबंधित एक श्लोक भी है। उसके अनुसार, 7 संकेतों को समझकर किसी भी व्यक्ति के मन की बात समझी जा सकती है। ये श्लोक इस प्रकार है-

 

श्लोक

अकारैरिंगितैर्गत्या चेष्टया भाषितेन च।

नेत्रवक्त्रविकाराभ्यां लक्ष्यतेर्न्गतं मनः।।

अर्थात्- 1. शरीर के आकार, 2. संकेत, 3. गति, 4. चेष्टा, 5. वाणी, 6. नेत्र व 7. चेहरे की भावभंगिमाओं से किसी भी व्यक्ति के मन की बातें समझी जा सकती हैं।